S M L

'बीजेपी ने चलाई थी आमिर को स्नैपडील से हटवाने की मुहिम'

नई किताब में दावा, बीजेपी के सोशल मीडिया सेल ने बनाया आमिर खान को निशाना

Updated On: Dec 27, 2016 08:10 PM IST

FP Politics

0
'बीजेपी ने चलाई थी आमिर को स्नैपडील से हटवाने की मुहिम'

आमिर खान के खिलाफ 'असहिष्णुता' का शोर याद है. जब आमिर के बयान पर बवाल के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर काफी खरी-खोटी सुनाई गई थी. इसके बाद आमिर को स्नैपडील के ब्रांड एंबेस्डर के रूप में हटाया गया था.

एक पत्रकार का दावा है कि सोशल मीडिया के जरिए यह पूरा दबाव बीजेपी की सोशल मीडिया सेल की ओर से बनाया गया था.

पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी की किताब 'आई एम ए ट्रॉल' में यह दावा किया गया है कि बीजेपी की मीडिया सेल को पार्टी के सूचना और प्रौद्योगिकी सेल की ओर से साफ तौर पर कहा गया था कि वह सोशल मीडिया के जरिए स्नैपडील पर आमिर खान को हटाने का दबाव बनाए. यह किताब जगरनॉट की ओर से पब्लिश की जा रही है.

स्नैपडील ने फरवरी में आमिर खान को ब्रांड एंबेस्डर के रूप में हटाया था. इससे एक महीने पहले पर्यटन मंत्रालय ने आमिर को अतुल्य भारत कैंपेन के चेहरे के रूप में हटाया गया था.

इस फैसले को आमिर खान के 'भारत में बढ़ती असहिष्णुता' पर की गई टिप्पणी का नतीजा माना जा रहा था. हालांकि सरकार ने खुद को इस विवाद से दूर रखा था.

2014 लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी से जुड़ी थीं स्वाति

Modi-1

लोकसभा चुनाव में जीत के बाद शपथ ग्रहण करते पीएम नरेंद्र मोदी

अपनी किताब में चतुर्वेदी बीजेपी की सोशल मीडिया सेल की पूर्व वॉलंटियर साध्वी खोसला से बात करती हैं. खोसला 2014 के चुनाव से पहले प्रधानमंत्री मोदी की सोशल मीडिया 'ड्रीम' टीम का हिस्सा थीं.

उन्होंने 2015 के अंत में सोशल मीडिया सेल छोड़ दी. खोसला गुरुग्राम में नॉलेज प्रोसेसिंग आउटसोर्सिंग (केपीओ) चलाती हैं. 2014 में जब वह अमेरिका में थीं तब उन्हें मोदी की सोशल मीडिया टीम की ओर से बुलावा आया.

तब वह बेहद खुश हुई थीं और उन्हें भरोसा था कि उनके आदर्श मोदी देश में वादे के मुताबिक सकारात्मक बदलाव और विकास लाएंगे.

हालांकि खोसला को कुछ ही महीने में एहसास हुआ कि जैसा दिख रहा था, वैसा था नहीं. खोसला ने चतुर्वेदी को बताया कि बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अरविंद गुप्ता, जो देश का सबसे बड़ा सोशल मीडिया ऑपरेशन चला रहे थे, ने उन्हें कहा कि 'लक्ष्य यूपीए सरकार और गांधी परिवार पर हमला करना और उन्हें एक्सपोज करना था.'

वॉलंटियरों को कुछ पत्रकारों को निशाना बनाने को भी कहा गया. किताब में बरखा दत्त और राजदीप सरदेसाई के नाम का जिक्र है. कुछ राजनेताओं को भी बदनाम करने के निर्देश थे. ट्रॉल्स को मोदी के खिलाफ लिखी किसी भी बात के खिलाफ हमला बोलने को कहा गया.

खोसला मानती हैं कि उन्हें भी ऐसे कई संदेश भेजने पड़े जिनमें अल्पसंख्यकों, गांधी परिवार और पत्रकारों के खिलाफ अभद्रता थी या फिर उन्हें ट्रॉल किया गया था.

गुप्ता के इशारे पर बरखा को भेजा गया रेप की चेतावनी का संदेश

barkha dutt

गेटी इमेज

उन्होंने चतुर्वेदी को बताया कि बरखा दत्त को रेप की चेतावनी वाला संदेश अरविंद गुप्ता के कहने पर ही भेजा गया था. अरविंद गुप्ता की बात आखिरी होती थी क्योंकि वह सीधे मोदी से संपर्क में थे. आईआईटी से पढ़े गुप्ता ने 2010 में बीजेपी ज्वाइन की थी और उन्हें मोदी को जिताने वाली कोर टीम का हिस्सा माना जाता है.

हालांकि खोसला के लिए 'ताबूत में आखिरी कील' बॉलीवुड के दो सबसे सितारों पर किए गए हमले रहे. साल 2015 के अंत में आमिर ने देश में बढ़ रही असहिष्णुता पर टिप्पणी की थी.

रामनाथ गोएनका अवॉर्ड्स समारोह में आमिर ने कहा था, 'किरन और मैंने अपनी पूरी जिंदगी भारत में बिताई है. पहली बार किरन ने मुझसे पूछा कि क्या हम देश से बाहर चले जाएं. वह अपने बच्चे के लिए फिक्र करती हैं. वह हमारे आसपास के बन रहे वातारण को लेकर फिक्रमंद हैं. वह अखबार खोलने से डरती हैं. कहीं न कहीं यह साबित करता है कि कुछ तो गड़बड़ है.'

आमिर को इस टिप्पणी के बाद काफी आलोचना झेलनी पड़ी. खोसला का कहना है कि गुप्ता ने सोशल मीडिया सेल में सभी को संदेश भेजा कि वह स्नैपडील के ब्रांड एंबैसेडर के रूप में आमिर खान को हटाने की ऑनलाइन याचिका पर हस्ताक्षर करे. जनवरी 2016 के अंत में स्नैपडील ने आमिर के करार को आगे नहीं बढ़ाया.

खोसला ने कहा कि इसके बाद उन्होंने बीजेपी से नाता तोड़ लिया. खोसला कहती हैं कि पीएम मोदी के खिलाफ कुछ भी कहने वाले को ट्रोल करने का ऑपरेशन आज भी जारी है.

अरविंद गुप्ता ने खारिज किए आरोप

अरविंद गुप्ता ने किताब में लगाए गए आरोपों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है. इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए गुप्ता ने कहा कि खोसला कांग्रेस की समर्थक हैं और उनके दावे बेबुनियाद हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने अपनी वेबसाइट सोशल मीडिया के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं और ट्रोलिंग को कभी बढ़ावा नहीं दिया. उन्होंने यह भी कहा कि जुलाई 2015 से बीजेपी की सोशल मीडिया सेल का प्रमुख कोई और है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi