S M L

राम मंदिर पर सिर्फ बीजेपी का एकाधिकार नहीं, औवेसी और आजम खान भी सहयोग करें: उमा भारती

उमा भारती ने कहा कि उद्धव ठाकरे के इस प्रयास के लिए हम उनकी सराहना करते हैं, राम मंदिर पर सिर्फ बीजेपी का एकाधिकार नहीं है

Updated On: Nov 26, 2018 10:24 AM IST

FP Staff

0
राम मंदिर पर सिर्फ बीजेपी का एकाधिकार नहीं, औवेसी और आजम खान भी सहयोग करें: उमा भारती

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे दो दिन तक अयोध्या में रहे और वहां उन्होंने कहा कि भगवान राम सिर्फ बीजेपी के नहीं हैं. उद्धव ठाकरे की इसी बात को लेकर केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने एक बड़ा बयान दिया है. उमा भारती ने कहा कि उद्धव ठाकरे के इस प्रयास के लिए हम उनकी सराहना करते हैं. राम मंदिर पर सिर्फ बीजेपी का एकाधिकार नहीं है. उमा भारती ने आगे कहा- भगवान राम हम सबके हैं. मैं सभी राजनीतिक दलों से अपील करती हूं कि वो राम मंदिर निर्माण में सहयोग करें. मैं समाजवादी पार्टी (एसपी), बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी), अकाली दल, औवेसी, आजम खान और अन्य से कहूंगी कि वो राम मंदिर निर्माण में सहयोग करें.

56 इंच के सीने के बजाय दिल में मंदिर के लिए मजबूती रखें

बता दें कि उद्धव ठाकरे ने बीते रविवार को बीजेपी की केंद्र सरकार को एक तरह का कुंभकर्ण बताया. राम मंदिर पर चार साल से नींद में रहने का आरोप लगाया. उन्होंने सरकार से राम मंदिर निर्माण की तारीख बताने के लिए भी कहा. उन्होंने 56 इंच के सीने के बजाय दिल में मंदिर के लिए मजबूती की बात करके पीएम मोदी पर तंज भी कसा. ठाकरे ने कहा कि अगर राम मंदिर का मामला अदालत के पास ही जाना है तो चुनाव के वक्त उसे इस्तेमाल न करें. साथ ही जनता से माफी मांगते हुए बताएं कि राम मंदिर निर्माण का वादा भी एक जुमला था. उन्होंने कहा कि बीजेपी हिंदुओं की भावनाओं के साथ खिलावाड़ न करे, बस यही बात कहने वह अयोध्या आए हैं.

यूपी सरकार से सवाल किया कि आखिर वह मंदिर दिखेगा कब?

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को भी निशाने पर लेते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैंने सीएम योगी को कई बार यह कहते सुना था कि मंदिर था, है और रहेगा. ये तो हमारी धारणा है, हमारी भावना है लेकिन दुख इस बात है कि वो दिख ही नहीं रहा. उन्होंने यूपी सरकार से सवाल किया कि आखिर वह मंदिर दिखेगा कब? वहीं उद्धव ठाकरे ने अयोध्या के संतों द्वारा की गई मेहमान नवाजी के लिए उनका शुक्रिया अदा किया और कहा कि यहां आने के पीछे उनका कोई छिपा हुआ एजेंडा नहीं था. वह यहां सिर्फ उन भावनाओं को जाहिर करने आया था जो राम मंदिर को लेकर देश और दुनिया भर के हिंदुओं के अंदर है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi