S M L

चुनावी साल में बीजेपी 'मिस्टर बंटाधार' तो कांग्रेस 'झूठे मामा' जैसे स्लोगन का लेगी सहारा

माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में कांग्रेस की चुनाव प्रचार सामग्री में इस तरह के स्लोगन देखने को मिलेंगे. हालांकि अब इसे लेकर कांग्रेस और बीजेपी में सियासी वार भी शुरू हो गया है

Updated On: Aug 27, 2018 10:12 AM IST

FP Staff

0
चुनावी साल में बीजेपी 'मिस्टर बंटाधार' तो कांग्रेस 'झूठे मामा' जैसे स्लोगन का लेगी सहारा
Loading...

बीजेपी के 'मिस्टर बंटाधार' के जवाब में कांग्रेस अब 'झूठे मामा' स्लोगन गढ़ने जा रही है. चुनावी साल में शिवराज सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने 'झूठे मामा' जैसे स्लोगन गढ़ने का फैसला किया है. इसके लिए कांग्रेस शिवराज सरकार के बीते 14 साल के कामकाज का खाका तैयार करेगी और अधूरी योजनओं के आधार पर सरकार पर निशाना साधा जाएगा. इसके लिए कांग्रेस ने खास तौर पर एक टीम तैयार की है.

दरअसल, बीजेपी और खुद सीएम शिवराज मध्य प्रदेश में साल 2003 के कामकाज की तुलना करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को 'मिस्टर बंटाधार' कहकर कांग्रेस पर निशाना साधते रहे हैं. अब इसी की काट के लिए कांग्रेस ने चुनावी समर में नए स्लोगन गढ़ने का फैसला किया है.

बीजेपी जनता को कांग्रेस के कार्यकाल की सारी नाकामियां बताएगी

माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में कांग्रेस की चुनाव प्रचार सामग्री में इस तरह के स्लोगन देखने को मिलेंगे. हालांकि अब इसे लेकर कांग्रेस और बीजेपी में सियासी वार भी शुरू हो गया है.

बता दें कि पिछले दिनों दिग्विजय सिंह के एक्टिव होते ही बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधने के लिए 'मिस्टर बंटाधार' का जिन्न फिर से निकाल लिया है. बीजेपी का कहना है कि वो हर संभव प्रयास करेगी कि जनता को कांग्रेस के कार्यकाल की सारी नाकामियां बताई जाएं.

दरअसल, बीजेप ने 2003 में 'मिस्टर बंटाधार' नाम से एक किताब छपवाई थी, जिसके बाद किताब को लेकर दिग्विजय सिंह ने कोर्ट का भी दरवाज़ा खटखटाया था. बीजेपी का कहना है कि दिग्विजय सिंह के शासन काल के बारे में लोगों को जानकारी देने की ज़रूरत है. युवाओं को पता होना चाहिए कि दिग्विजय सिंह के शासन काल में मध्य प्रदेश के क्या हालात थे.

(न्यूज 18 के लिए शरद श्रिवास्तव का लेख)

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi