S M L

सियासी मुद्दों में ना पड़ें आर्मी चीफ रावत-ओवैसी

रावत के बयान पर अचंभा जताते हुए औवैसी ने कहा, आर्मी चीफ को सियासी मुद्दों में नहीं पड़ना चाहिए

FP Staff Updated On: Feb 22, 2018 03:16 PM IST

0
सियासी मुद्दों में ना पड़ें आर्मी चीफ रावत-ओवैसी

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि नॉर्थ-ईस्ट में अवैध परदेसियों की दिनोंदिन बढ़ती आबादी के लिए पाकिस्तान और चीन जिम्मेदार हैं. जनरल रावत ने नई दिल्ली में बॉर्डर सुरक्षा पर आयोजित एक समिट को संबोधित करते हुए यह बात कही. उनके इस बयान को लेकर कुछ नेताओं ने विरोध भी जताना शुरू कर दिया है.

निशाने पर पाक और चीन

बकौल आर्मी प्रमुख, 'बांग्लादेश से आ रहे लोगों के पीछे दो वजह है. पहला कारण, उन्हें रहने के लिए वहां जगह कम पड़ रही है. मॉनसून के कारण अधिकांश इलाकों में पानी भर जाता है. लिहाजा रहने के लिए जगह सिकुड़ते चले जाते हैं. इसलिए उधर के लोग हमारे यहां आना शुरू कर देते हैं.'

रावत ने आगे कहा, 'दूसरा मुद्दा एक सोची समझी साजिश के तहत यहां लोगों को भेजने का है, जो हमारा पश्चिमी छोर का पड़ोसी (पाकिस्तान) रच रहा है.' वे हमेशा चाहेंगे कि यह इलाका किसी छद्म लड़ाई के लिए सुलगता रहे. छद्म युद्ध की यह सुनियोजित रणनीति हमारा पश्चिमी पड़ोसी रचता है, जिसे हमारे उत्तरी पड़ोसी (चीन) की ओर से समर्थन मिलता रहा है.

उन्होंने कहा, हमें नॉर्थ-ईस्ट की परेशानियों को समझना होगा.

विकास के लिए भारी मुसीबत

जनरल ने कहा, नॉर्थ-ईस्ट की यह परेशानी क्या मुसीबत नहीं है? क्या यह विकास के लिए नई समस्या नहीं है? या यह कोई ऐसी परेशानी है जो आबादी बढ़ने के कारण बढ़ी है. मेरे हिसाब से ये सारी समस्याएं हमें घेरती जा रही हैं जिसपर समग्रता से सोचने की जरूरत है. हालांकि केंद्र सरकार इस ओर गंभीरता से ध्यान दे रही है तभी एक्ट ईस्ट पॉलिसी ले आई है, जिसके केंद्रबिंदु में इस इलाके का विकास है.

एआईयूडीएफ को भी लपेटा

नॉर्थ-ईस्ट की आबादी में छेड़छाड़ को मुश्किल बताते हुए रावत ने कहा, एआईयूडीएफ (ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट) नाम की एक पार्टी है. पिछले कई साल में बीजेपी ने जिस तेजी से विकास किया, उससे कई गुना ज्यादा तेजी से एआईयूडीएफ फैली है. अगर हम जनसंघ और उसके दो सांसदों वाली पार्टी की तुलना असम में एआईयूडीएफ से करें तो पाएंगे कि ये उनसे ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं.

एआईयूडीएफ असम की पार्टी है जिसके वोटर ज्यादातर मुस्लिम समुदाय के लोग हैं.

बदरुद्दीन ने उठाया सवाल

एआईयूडीएफ प्रमुख बदरुद्दीन अजमल ने जनरल रावत के बयान पर निशाना साधते हुए कहा, जन. रावत ने सियासी बयान दिया है. किसी आर्मी प्रमुख को इस बात पर क्यों फिक्रमंद होना चाहिए कि एक लोकतांत्रिक और सेकुलर मूल्यों वाली पार्टी बीजेपी से ज्यादा तेजी से विकास कर रही है? उन्हें समझना चाहिए कि एआईयूडीएफ या आप जैसी पार्टियां बड़ी-बड़ी पार्टियों की नाकामी के कारण आगे बढ़ती हैं.

जनरल पर ओवैसी का पलटवार

रावत के बयान पर अचंभा जताते हुए एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन औवैसी ने कहा, आर्मी चीफ को सियासी मुद्दों में नहीं पड़ना चाहिए. यह उनका काम नहीं है जो वे किसी पार्टी के विकास, लोकतंत्र पर बोलें जिसकी इजाजत संविधान देता है. आर्मी हमेशा एक चुने हुए नागरिक सरकार के तहत काम करती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi