S M L

अब दिल्ली में नाले के पानी से बनाया जाएगा बायो फ्यूल

एक प्रोफेसर ने बताया कि टेकनोलॉजी सीवेज में से कार्बन निकालकर उसे बायो फ्यूल में बदल देगी.

Updated On: Sep 18, 2018 07:58 PM IST

Bhasha

0
अब दिल्ली में नाले के पानी से बनाया जाएगा बायो फ्यूल

मंगलवार को केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने दिल्ली के बारापुला नाले के पानी का शोधन करने और बायो फ्यूल बनाने वाली परियोजना का उद्धाटन किया. इस परियोजना में अपनी तरह की पहली टेकनोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा.

राष्ट्रीय राजधानी के सन डायल पार्क में ‘लोकल ट्रीटमेंट ऑफ अर्बन सीवेज स्ट्रीम्स फॉर हेल्थी रीयूज (एलओटीयूएसएचआर) परियोजना का शुभारंभ किया गया. जो 10 लाख लीटर सीवर के पानी को स्वच्छ जल में बदल सकती है और तीन टन बायो फ्यूल पैदा कर सकती है.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा कि बायो टेकनोलॉजी विभाग ने मिसाल पेश की है कि हम कैसे नाले को लाभकारी खान में बदल सकते हैं. अभी यह प्रायोगिक स्तर पर है. हम नाले के पानी को ले रहे हैं और साफ कर रहे हैं. हम साफ पानी इस्तेमाल रसोई, उद्योग, और शौचालय में कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि हमने यहां एक प्रयोगशाला स्थापित की है. हम इसका विस्तार वहां तक कर सकते हैं जहां तक हम चाहते हैं. यह समूचे देश के लिए एक मॉडल बन सकता है.

परियोजना से जुड़े रसायन प्रौद्योगिकी संस्थान (आईसीटी) के एक प्रोफेसर ने बताया कि टेकनोलॉजी सीवेज में से कार्बन निकालकर उसे बायो फ्यूल में बदल देगी. दिल्ली और मुंबई जैसे स्थानों पर 90 फीसदी सीवेज शोधन संयंत्र काम नहीं करते हैं क्योंकि उन्हें चलाने के लिए बहुत पैसे की आवश्यकता होती है. आईसीटी ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सहयोग से इस तकनीक को विकसित किया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi