S M L

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांडः सुप्रीम कोर्ट ने कहा- आरोपी बृजेश ठाकुर बहुत प्रभावशाली व्यक्ति

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई और बिहार सरकार से पूछा कि बिहार सरकार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के पति चन्द्रशेकर वर्मा की अभी तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हो पाई है

Updated On: Oct 25, 2018 01:40 PM IST

FP Staff

0
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांडः सुप्रीम कोर्ट ने कहा- आरोपी बृजेश ठाकुर बहुत प्रभावशाली व्यक्ति
Loading...

बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी टिप्पणी की है. मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड पर सीबीआई द्वारा फाइल की गई स्टेटस रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह बेहद डरावना और भयावह है. बिहार सरकार कर क्या रही है. मामले का मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर बहुत ही प्रभावशाली व्यक्ति है. सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई और बिहार सरकार से पूछा कि बिहार सरकार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के पति चन्द्रशेकर वर्मा की अभी तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हो पाई है.

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आरोपी बृजेश ठाकुर काफी प्रभावशाली व्यक्ति है और वो चल रही जांच में बाधा पहुंचा रहा है. यही कारण है कि उसे बिहार से बाहर जेल में ट्रांसफर कर देना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने बृजेश ठाकुर को नोटिस जारी कर पूछा कि क्यों न फ्री एंड फेयर जांच के लिए उसे बिहार से बाहर जेल में ट्रांसफर कर दिया जाए? सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि शेल्टर होम रेप केस में सीबीआई की स्टेटस रिपोर्ट चौंकाने वाली है और इससे पता चलता है कि किस भयावह तरीके से इस अपराध को अंजाम दिया गया है.

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार पर सवाल उठाया और कहा कि आखिर सरकार इस मामले में क्या कर रही है? इस दौरान बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के सुझाव का समर्थन किया कि बृजेश ठाकुर को बिहार से बाहर ट्रांसफर किया जाना जरूरी है. बता दें कि मामले की अगली सुनवाई 30 अक्टूबर को होगी. इसी बीच मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म मामले में सीबीआई ने ब्रजेश ठाकुर के चचेरे मामा रामानुज ठाकुर को गिरफ्तार किया है. कोर्ट ने उसे 4 दिनों की सीबीआई रिमांड पर भेज दिया है.

इसके अलावा मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म कांड में आयकर विभाग ने एनजीओ ‘सेवा संकल्प व विकास समिति’ को नोटिस भेजा है. इस एनजीओ का संचालक मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर है. आयकर विभाग ने एसेसमेंट रीओपन करने का नोटिस सेवा संकल्प व विकास समिति को भेजा है और 30 दिनों में जवाब भी मांगा है. कोर्ट ने आदेश दिया है कि इस कांड के मुख्य आरोपित और 'सेवा संकल्प व विकास समिति' के संचालक ब्रजेश ठाकुर के बहीखातों की बारीकी जांच की जाए.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi