S M L

Bihar Board 10th Result 2018: पिछले 3 सालों का सबसे बेहतर रिजल्ट, बेटियों ने किया नाम रौशन

बिहार में मैट्रिक की परीक्षा के रिजल्ट इस बार बेहतर रहे हैं. पिछले तीन साल के रिजल्ट की बात करें तो इस बार नतीजे सबसे बेहतर हैं

FP Staff Updated On: Jun 27, 2018 10:27 AM IST

0
Bihar Board 10th Result 2018: पिछले 3 सालों का सबसे बेहतर रिजल्ट, बेटियों ने किया नाम रौशन

बिहार में मैट्रिक की परीक्षा के रिजल्ट इस बार बेहतर रहे हैं. पिछले तीन साल के रिजल्ट की बात करें तो इस बार नतीजे सबसे बेहतर हैं. इस बार की परीक्षा में कुल 68.89 परीक्षार्थी सफल हुए है. मैट्रिक के नतीजों में जमुई जिले के सिमुलतला स्कूल का दबदबा कायम रहा है. यहां की प्रेरणा राज 457 अंक लाकर टॉपर बनी हैं.

वहीं दूसरे और तीसरे स्थान पर इसी स्कूल की तीन और बच्चियों ने कब्जा किया है. मैट्रिक की परीक्षा के ओवरऑल नतीजों की बात करें तो कुल उतीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 1211617 हैं. बोर्ड के नतीजों में 667505 छात्र तथा 544112 छात्राएं सफल हुई हैं. प्रथम श्रेणी में इस बार 189326 बच्चे पास हुए हैं इसमें छात्रों की संख्या 123547 और छात्राओं की संख्या 65779 रही. दूसरे श्रेणी में 663884 विद्यार्थी पास हुए जिनमें 367989 छात्र और 295895 छात्राएं रहीं. तीसरे श्रेणी में 357103 विद्यार्थी पास हुए जिनमें छात्रों की संख्या 175359 और छात्राओं की संख्या 181744 है.

दरअसल बोर्ड ने इस बार की परीक्षा में 50 प्रतिशत ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे थे जिसका फायदा बच्चों को हुआ. खुद बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने भी माना कि बच्चों को ऑब्जेक्टिव प्रश्न का फायदा मिला. मैट्रिक की परीक्षा में कुल असफल परीक्षार्थियों की संख्या 538825 है जबकि लंबित परीक्षाफल 7815 हैं.

मालूम हो कि पिछले साल पिछले 50.12 फीसदी स्टूडेंट्स ही इस परीक्षा में पास हो पाए थे उससे पहले साल 2016 में 46 फीसदी बच्चे पास हुए थे. बिहार बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर ने पिछले साल के नतीजों के बाद परीक्षा के पैटर्न में बदलाव के संकेत दिये थे जिसके बाद इस बार परीक्षा में 50 फीसदी प्रश्नप्रत्र वैकल्पिक थे और इसी का नतीजा है कि रिजल्ट में काफी सुधार हुआ है.

(न्यूज 18 के लिए अमरेंद्र कुमार की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi