S M L

भय्यूजी की बेटी और दूसरी पत्नी के बीच आखिर क्या पक रहा था, जानिए इनसाइड स्टोरी

हर जुबान पर यही सवाल हैं कि दूसरों को डिप्रेशन से निकलने का ज्ञान देने वाला आखिर खुद कैसे डिप्रेशन में आ सकता है

Rituraj Tripathi Rituraj Tripathi Updated On: Jun 13, 2018 06:56 PM IST

0
भय्यूजी की बेटी और दूसरी पत्नी के बीच आखिर क्या पक रहा था, जानिए इनसाइड स्टोरी

आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज की मौत ने पूरे देश में हड़कंप मचा दिया है. हर कोई जानना चाहता है कि वो कौन सी वजह थी जिसने एक विनम्र और आध्यात्मिक छवि के व्यक्ति को आत्महत्या करने पर मजबूर कर दिया. हर जुबान पर यही सवाल है कि दूसरों को डिप्रेशन से निकलने का ज्ञान देने वाला शख्स आखिर खुद कैसे डिप्रेशन में आ सकता है.

रिपोर्टस के मुताबिक भय्यूजी पिछले कुछ समय से बहुत उदास और परेशान चल रहे थे. बेटी कुहू ने अपनी सौतेली मां(दूसरी पत्नी) की वजह से भय्यूजी से दूरी बना ली थी. परिवार और प्रॉपर्टी को लेकर चल रहे विवादों की वजह से उनका किसी भी काम में मन नहीं लग रहा था. बेटी कुहू और दूसरी पत्नी आयुषी के बीच चल रहा विवाद भय्यूजी की सबसे बड़ी परेशानी थी.

भय्यूजी के परिवार में आखिर क्या पक रहा था

भय्यूजी की छवि एक ऐसे पारिवारिक शख्स की थी जो धार्मिक अनुष्ठानों में गहरी रुचि रखते थे. उनकी पहली पत्नी माधवी की मौत ने उन्हें बहुत अकेला कर दिया था. उन्होंने गृहस्थी त्यागकर घोषणा की थी कि अब वह कभी शादी नहीं करेंगे. भय्यूजी की हालत देखकर उनकी मां और बहन ने उन पर दूसरी शादी करने के लिए दबाव बनाया था. बहन ने दो दिनों तक खाना न खाकर भय्यूजी को शादी के लिए राजी कर लिया था.

पहली पत्नी माधवी की मौत के एक साल बाद भय्यूजी ने ग्वालियर में डॉ आयुषी के साथ दूसरी शादी कर ली थी. अप्रैल 2017 में हुई इस शादी को देखकर सभी लोग हैरान हो गए थे क्योंकि भय्यूजी ने दूसरी शादी न करने की कसम खाई थी.

बताया जा रहा है कि भय्यूजी के डिप्रेशन की वजह बेटी कुहू और उसकी सौतेली मां आयुषी के बीच होने वाला तनाव था. भय्यूजी के दूसरी शादी करने के बाद परिवार का माहौल बहुत बिगड़ गया था. पहली पत्नी माधवी की बेटी कुहू के अपनी सौतेली मां आयुषी से अच्छे संबंध नहीं थे. कुहू अपनी सौतेली मां को पसंद नहीं करती थी.

कुहू का अपनी सौतेली मां के साथ संपत्ति का विवाद भी चल रहा था. भय्यूजी को अपनी दूसरी पत्नी आयुषी से भी एक बेटी है और वह अपनी संपत्ति को दोनों बेटियों के बीच बांटना चाहते थे लेकिन कुहु और उसकी सौतेली मां के बीच सहमति नहीं बन रही थी. जिसकी वजह से भय्यूजी बहुत परेशान चल रहे थे.

भय्यूजी की बेटी कुहू पुणे में पढ़ती थी लेकिन वह उसे इंदौर स्थित घर में रखना चाहते थे. पारिवारिक कलह की वजह से भय्यूजी की दूसरी पत्नी नहीं चाहती थीं कि कुहू इंदौर में रहे. हालांकि भय्यू बार-बार पारिवारिक तनाव को कम करने की कोशिश कर रहे थे.

घर के झगड़े को निपटाने के लिए ही भय्यूजी बेटी कुहू के पास पुणे जा रहे थे लेकिन जब उनका फोन बार-बार बजा तो वह सेंधवा से वापस लौट आए. पिछले दो दिनों में परिवार में जो कलह हुई उसे भय्यूजी सहन नहीं कर पाए.

उदय सिंह कैसे बने थे भय्यूजी

bhaiyyu maharaj

भय्यूजी को उनके फॉलोअर्स भगवान की तरह पूजते थे. आध्यात्म की दुनिया में आने से पहले लोग उन्हें उदय सिंह देशमुख के नाम से जानते थे. उनका जन्म 1968 में शाजापुर में एक जमींदार परिवार में हुआ था. आध्यात्म की तरफ उनका झुकाव बचपन से ही था जो कि जवानी तक आते-आते बढ़ता गया.

जब वह गांव से शहर आए तो सबसे पहले प्राइवेट नौकरी की, लेकिन यहां उनका मन नहीं लगा. अपने फ्रेश चेहरे की वजह से उन्होंने मॉडलिंग की दुनिया में हाथ आजमाया. उन्हें बड़ी कंपनियों के विज्ञापन मिलने लगे लेकिन बाद में आध्यात्म के झुकाव ने उन्हें पूरी तरह अपनी ओर खींच लिया और वह उदय सिंह देशमुख से भय्यूजी महाराज बन गए.

भय्यूजी ने इंदौर में सद्गुरु दत्त धार्मिक और परमार्थ ट्रस्ट की स्थापना की. इसके बाद वह पूरी तरह धार्मिक और सामाजिक कार्यों में जुट गए. वह यहीं नहीं रुके, उन्होंने कई संगठनों और सरकार के बीच मध्यस्थता का भी काम किया.

सुसाइड नोट में भय्यूजी ने क्या लिखा

पुलिस ने एक पेज का सुसाइड नोट जारी किया जिसमें भय्यूजी ने तनाव की वजह से खुदकुशी करने की बात लिखी है. हालांकि अभी तक सुसाइड नोट के दूसरे पेज का खुलासा नहीं किया गया है. मिली जानकारी के मुताबिक दूसरे पेज में भय्यू ने सुसाइड के लिए खुद को जिम्मेदार ठहराया है और अपने विश्वासपात्र विनायक को प्रॉपर्टी की देखरेख करने की बात लिखी है.

भय्यूजी ने लिखा 'विनायक मेरे विश्वासपात्र हैं, सारा प्रॉपर्टी वही संभालें. किसी को तो परिवार की ड्यूटी करनी होगी, मुझे उस पर विश्वास है, वह यह काम करेगा. मैं कमरे में अकेला हूं और सुसाइड नोट लिख रहा हूं. यह मैं किसी दबाव में आकर नहीं लिख रहा हूं, इसके लिए कोई जिम्मेदार नहीं है.'

हालांकि पुलिस ने अभी परिजनों से पूछताछ नहीं की है. पुलिस की स्पेशल टीम मौत से जुड़े सबूत जुटाने की कोशिश कर रही है. इस मामले में सभी परिजनों और करीबियों के बयान दर्ज किए जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi