S M L

'भारत बंद' किसका है और इसका विरोध कौन कर रहा है?

जब भारत बंद है ही नहीं तो सोशल मीडिया पर इसका विरोध किसकी ओर से हुआ...

Updated On: Nov 28, 2016 11:55 AM IST

Pawas Kumar

0
'भारत बंद' किसका है और इसका विरोध कौन कर रहा है?

मुझे वाट्सएप पर एक मित्र का संदेश मिला कि 28 नंबर को भारत बंद है. संदेश में लिखा था कि भारत बंद को विफल बनाया जाए और इसके लिए 2 घंटे अधिक काम करने का संकल्प लिया जाए.

यह पहली बार था, जब मैंने सुना कि 28 नवंबर को 'भारत बंद' है. मैंने यह खबर तो पढ़ी थी कि सोमवार को विपक्षी पार्टियां देश भर में आंदोलन और विरोध-प्रदर्शन करने जा रही हैं लेकिन भारत बंद की चर्चा नहीं थी. वाम दलों ने केरल, बिहार, बंगाल और ओडिशा में हड़ताल की बात की थी लेकिन यह देशव्यापी बंद की चर्चा में कब बदला यह समझ में नहीं आया.

ये भी पढ़ें: नोटबंदी पर भारत बंद: सबकी डफली, सबका राग

इसके बाद वाट्सएप, फेसबुक पर इस भारत बंद के खिलाफ कई संदेश दिखे. अधिकतर में बंद के बजाय अधिक काम करने की बात थी. ऐसा लग रहा था कि देश भारत बंद के खिलाफ है. जाहिर हैं कि जहां नोटबंदी के कारण बाजार में पहले से मंदी है वहां बंदी की बात को समर्थन मिलना मुश्किल ही था. इस बीच कई बड़ी विपक्षी पार्टियों के बयान आने लगे कि उन्होंने कोई भारत बंद नहीं बुलाया. ऐसे में सवाल है कि यह भारत बंद करा कौन रहा है और इसका आह्वान किसने कर दिया.

Bharat-Bandh4

ऐसे कई संदेश सोशल मीडिया पर देखने को मिले

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बीजेपी यह गलत प्रचार कर रही है कि विपक्ष ने ‘भारत बंद’ की अपील की है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों ने सोमवार को ‘जन आक्रोश दिवस’ दिवस का ऐलान किया है, जिसके तहत देश भर में विरोध प्रदर्शन की अपील की गई है. अपने प्रभुत्व वाले कुछ इलाकों में वामदल भले बंद करा रहे हैं और बिहार-बंगाल से ऐसी खबरें आ रही हैं. केरल में भी सुबह से शाम तक हड़ताल है.

खैर सवाल यह है कि जब भारत बंद है ही नहीं तो सोशल मीडिया पर यह विरोध किसकी ओर से और कहां से हुआ. कुछ लोगों ने 'भारत बंद' के खिलाफ लगातार सोशल मीडिया में फॉरवार्डेड पोस्ट डालकर इसे सच बनाने में मदद की. अब इस तथाकथित बंद के विफल हो जाने को देश में नोटबंदी के लिए समर्थन और विपक्ष की हार के तौर पर दिखाया भी जाएगा. दुकान खुली रखने वालों को देशभक्त बताया जाएगा.

क्या देश की राय (जिसका मतलब आजकल सोशल मीडिया की राय ज्यादा) पर विरोध को देखकर विपक्षी दलों ने हाथ पीछे खींच लिए या फिर वह बीजेपी व समर्थकों की शानदार सोशल मीडिया मशीनरी के हाथों एक और हार के शिकार हो गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi