S M L

भागलपुर हिंसा मामला: अरिजीत शाश्वत ने किया सरेंडर, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए

माना जा रहा है कि अरिजीत ने राजनीतिक और पुलिस के बढ़ते दबाव के बाद यह सरेंडर किया है

Updated On: Apr 01, 2018 01:07 PM IST

FP Staff

0
भागलपुर हिंसा मामला: अरिजीत शाश्वत ने किया सरेंडर, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए

भागलपुर दंगे के आरोपी केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे और बीजेपी नेता अरिजीत शाश्वत  को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है.

रविवार को अरिजीत को भागलपुर में एसीजेएम ए के उपाध्याय की कोर्ट में पेश किया गया. जहां से उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

देर रात पटना में सरेंडर करने के बाद अरिजीत चौबे को पुलिस रविवार को भागलपुर लेकर आई है. यहां पहुंचने पर पुलिस को लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा.

अरिजीत चौबे ने शनिवार आधी रात को पटना के महावीर मंदिर के पास पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था.

सरेंडर से पहले अरिजीत ने मीडिया से कहा कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है. उन्हें राजनीति के तहत इस मामले में फंसाया गया है.

इससे पहले शनिवार को भागलपुर कोर्ट ने अरिजीत की अग्रिम जमानत (एंटीसिपेटरी बेल) याचिका पर सुनवाई करते हुए उसे खारिज कर दिया था.

अरिजीत शाश्वत चौबे ने बीजेपी के टिकट पर भागलपुर से पिछला विधानसभा चुनाव लड़ा था. माना जा रहा है कि उसने बढ़ते राजनीतिक और पुलिस के दबाव के बाद सरेंडर किया है.

अरिजीत पर बीते 17 मार्च को भागलपुर के नाथ नगर में हिंदी नव वर्ष के मौके पर निकाली गई शोभा यात्रा जुलूस के दौरान हिंसा और उपद्रव भड़काने का आरोप है. पुलिस ने इसे लेकर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज किया था.

इस घटना के बाद बिहार के अन्य जिलों में भी दोनों समुदायों के बीच हिंसा और आगजनी की वारदातें हुईं थीं. अरिजीत की गिरफ्तारी नहीं होने और सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं को लेकर राज्य की नीतीश कुमार सरकार को काफी फजीहत का सामना और आलोचना झेलनी पड़ रही थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi