S M L

देखते-देखते विश्वास डूब गया, दोस्त सेल्फी लेते रहे

सेल्फी लेने के चक्कर में अब तक कई लोगों की मौत की खबरें सामने आ चुकी हैं

Updated On: Sep 26, 2017 05:25 PM IST

FP Staff

0
देखते-देखते विश्वास डूब गया, दोस्त सेल्फी लेते रहे

सेल्फी लेने के चक्कर में अब तक कई लोगों की मौत की खबरें सामने आ चुकी हैं. ऐसा ही सेल्फी से जुड़ा एक मामला बेंगलुरु में भी सामने आया है. स्टूडेंट्स का एक ग्रुप सेल्फी लेने में इतना व्यस्त हो गया कि उन्हें पानी में डूबता अपना दोस्त भी नजर नहीं आया.

जयानगर के नेशनल कॉलेज का छात्र विश्वास जी रविवार को एनसीसी के अपने साथी कैडेट्स के साथ पिकनिक मनाने बेंगलुरु से करीब 40 किलोमीटर दूर रवागोंडलू बेट्टा गया था. जहां तालाब में डूबने से उसकी मौत हो गई. वहीं विश्वास के माता-पिता और परिजनों ने कॉलेज के एनसीसी यूनिट के इंचार्ज प्रोफेसर गिरीश और शरथ पर लापरवाही का आरोप लगाया है. उन्होंने कॉलेज के सामने विश्वास का शव रखकर विरोध प्रदर्शन किया.

हालांकि बाद में कॉलेज मैनेजमेंट के कहने पर प्रदर्शन रोक दिया गया. मैनेजमेंट ने विश्वास के माता-पिता को आश्वासन दिया है कि अगर मामले में प्रोफेसरों की भूमिका की पुष्टि होती है, तो वो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा.

एक छात्र ने बताया कि स्विमिंग के बाद हम सब गुंडनजनेया मंदिर की ओर निकल गए. लेकिन हमने ये चीज नोटिस नहीं की कि विश्वास हमारे साथ मौजूद नहीं है. एक छात्र अपनी सेल्फी की तस्वीरें देख रहा था, तब एक तस्वीर में उसने देखा कि विशाल डूब रहा है. इसके बाद उसने तुरंत इस बारे में एनसीसी यूनिट चीफ प्रोफेसर गिरीश व अन्य दोस्तों को बताया. जब तक वो मौके पर पहुंचे करीब एक घंटा बीत चुका था और विश्वास कहीं नजर नहीं आ रहा था.

पुलिस का कहना है कि प्रोफेसर गिरीश मौके पर मौजूद थे. लेकिन कॉलेज अथॉरिटी ने दावा किया है कि स्टूडेंट्स के साथ कोई भी फैकल्टी मेंबर नहीं गया था. विशाल के डूबने की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और विश्वास के शव को बाहर निकाला गया. रामनगर जिले के एसपी रमेश भनौत ने इस बात की पुष्टि की है कि स्टूडेंट्स मौके पर प्रोफेसर गिरीश के साथ आए थे. और ये हादसा तब हुआ जब स्टूडेंट्स सेल्फी ले रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi