S M L

मणिपुर के आठ उग्रवादी समूहों पर प्रतिबंध पांच साल बढ़ाया गया

मणिपुर में आठ उग्रवादी संगठन एक जनवरी 2013 से 31 जुलाई 2018 तक पिछले पांच साल में 756 हिंसक घटनाओं में शामिल रहे हैं जिस दौरान उन्होंने सुरक्षा बलों के 35 जवानों समेत 86 लोगों की हत्या कर दी

Updated On: Nov 13, 2018 08:13 PM IST

Bhasha

0
मणिपुर के आठ उग्रवादी समूहों पर प्रतिबंध पांच साल बढ़ाया गया

सरकार ने मणिपुर के आठ उग्रवादी समूहों के गैरकानूनी और हिंसक गतिविधियों में शामिल बने रहने के लिए उन पर लगे प्रतिबंध को पांच साल के लिए बढ़ा दिया है. गृह मंत्रालय ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

गृह मंत्रालय ने कहा कि इन समूहों ने भारत से अलग होकर एक अलग मणिपुर राज्य बनाने के अपने मकसद को खुलकर व्यक्त किया है, उन्होंने अपने मकसद को हासिल करने के लिए सशस्त्र तरीके अपनाए हैं और सुरक्षा बलों, पुलिस तथा सरकारी कर्मचारियों पर हमले किए हैं.

गृह मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत जिन संगठनों को प्रतबंधित किया गया है, उनमें पीपुल्स लिबरेशन आर्मी या पीएलए और उसकी राजनीतिक इकाई, रिवॉल्यूशनरी पीपुल्स फ्रंट (आरपीएफ), यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट (यूएनएलएफ) और इसकी सशस्त्र इकाई मणिपुर पीपुल्स आर्मी (एमपीए), पीपुल्स रिवॉल्यूशनरी पार्टी ऑफ कांगलीपाक और उसकी सशस्त्र इकाई ‘रेड आर्मी’, कांगलीपाक कम्युनिस्ट पार्टी (केसीपी) और इसकी सशस्त्र इकाई ‘रेड आर्मी’, कांगली याओल कांबा लुप (केवाईकेएल), कॉर्डिनेशन कमेटी और अलायंस फॉर सोशलिस्ट युनिटी कांगलीपाक हैं.

आठ संगठनों ने कई हत्याएं की:

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि इन संगठनों पर पांच साल से लगे प्रतिबंध की सीमा हाल ही में समाप्त हो गयी थी और इसलिए पांच और साल के लिए इन्हें प्रतिबंधित घोषित करना जरूरी हो गया था.

मंत्रालय ने कहा कि मणिपुर में आठ उग्रवादी संगठन एक जनवरी 2013 से 31 जुलाई 2018 तक पिछले पांच साल में 756 हिंसक घटनाओं में शामिल रहे हैं, जिस दौरान उन्होंने सुरक्षा बलों के 35 जवानों समेत 86 लोगों की हत्या कर दी.

अधिसूचना के मुताबिक इन समूहों ने आम लोगों को डराने-धमकाने, उनसे जबरन वसूली और लूट में शामिल रहे हैं. उन्होंने जनता की राय को प्रभावित करने के लिए विदेशी स्रोतों से संपर्क बनाए और अपने अलगाववादी मकसद को हासिल करने के लिए हथियारों तथा प्रशिक्षण के माध्यम से उनकी मदद हासिल की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi