S M L

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का हल अदालत से ही संभव: कमेटी

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी ने बैठक कर बातचीत से इस समस्या का हल नहीं निकलने की बात कही

Updated On: Mar 26, 2017 08:56 PM IST

Bhasha

0
राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का हल अदालत से ही संभव: कमेटी

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी ने कहा कि, राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को आपसी बातचीत के जरिये हल नहीं किया जा सकता. इसका समाधान सिर्फ सुप्रीम कोर्ट से ही संभव है.

कमेटी के संयोजक जफ़रयाब जीलानी ने रविवार को दिए अपने बयान में बताया कि, कमेटी की लखनऊ में हुई एक बैठक में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस द्वारा अयोध्या विवाद को आपसी सहमति से सुलझाने और जरूरत पड़ने पर उसमें मध्यस्थता करने की पेशकश को लेकर यह फैसला किया गया है कि बाबरी मस्जिद का मुद्दा सिर्फ अदालत से ही हल हो सकता है.

Zafaryab Jilani

जफ़रयाब जीलानी विवादित स्थल पर बाबरी मस्जिद बनवाए जाने के पैरोकार हैं (फोटो: रॉयटर्स)

बैठक में कहा गया कि अदालत के बाहर कई बार बातचीत नाकाम रही है. इस समय भी बातचीत से इस मुद्दे का कोई हल मुमकिन नहीं है.

जफ़रयाब जीलानी ने बताया कि, सभा में यह भी महसूस किया गया कि पहले प्रधानमंत्री निष्पक्ष हुआ करते थे लेकिन वर्तमान में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री खुद एक पक्षकार हैं जो बीजेपी के राम मंदिर आंदोलन के हिमायती और कार्यकर्ता रहे हैं. ऐसे में उनके कतई यह उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह मुसलमानों के साथ मस्जिद के मसले पर न्याय करेंगे.

उन्होंने कहा कि, सभा में यह भी महसूस किया गया कि अगर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस या दूसरे जज दीवानी की धारा 89 के तहत मुद्दे के हल के लिये प्रयास करें तो इस प्रयास में मुस्लिम पक्ष जरूर सहयोग करेगा.

supreme court

अयोध्या में राम मंदिर-बाबरी मस्जिद का विवादित मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों अयोध्या विवाद को बेहद संवेदनशील बताते हुए इसे विभिन्न पक्षों को आपसी बातचीत के जरिए सुलझा लेने की बात कही थी. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया जेसी केहर ने कहा था कि वह इस मामले में मध्यस्थता करने को तैयार हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi