S M L

'मुसलमानों ने मुगल-ए-आजम में अनारकली पर नहीं किया था विरोध'

आजम ने यह भी कहा कि हम पिछले 40 साल से कह रहे हैं कि हिन्दुस्तान के तमाम नवाब और राजा अंग्रेजों के एजेन्ट थे

Updated On: Nov 21, 2017 03:30 PM IST

FP Staff

0
'मुसलमानों ने मुगल-ए-आजम में अनारकली पर नहीं किया था विरोध'

अपने बयानों से हमेशा चर्चा में रहने वाले सपा नेता आजम खान ने संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती पर बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि एक फिल्म की कहानी को लेकर विरोध चल रहा है. जबकि वह सिर्फ एक कहानी है. उन्होंने मुगल-ए-आजम फिल्म का उदाहरण देते हुए बताया कि उस फिल्म में अनारकली को सलीम का महबूबा बताया गया था लेकिन यह सच्चाई से परे बात थी. इसका किसी मुस्लिम ने विरोध नहीं किया.

आजम खान ने नगर निकाय चुनाव में प्रचार के दौरान कहा कि एक फिल्म कि कहानी का विरोध किया जा रहा है. उन्होंने मुगल-ए-आजम फिल्म का हवाला देते हुए कहा कि उसमें दिखाया गया है कि अनारकली सलीम की महबूबा थी लेकिन सच्चाई से इसका कोई वास्ता नहीं है. किसी भी मुस्लिम ने उस फिल्म का विरोध नहीं किया था क्योंकि वह एक कहानी थी. मुस्लिम बड़े दिल वाले होते हैं. उन्हें पता है कि एक फिल्म उनके इतिहास को नहीं मिटा सकती.

आजम खान यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि फिल्में मजा लेने के लिए होती हैं. हमने ‘नौ लखा’ गाने वाली अदाकारा को दो बार रामपुर से सांसद बनाया. आजम ने यह भी कहा कि हम पिछले 40 साल से कह रहे हैं कि हिन्दुस्तान के तमाम नवाब और राजा अंग्रेजों के एजेन्ट थे. नवाबों की नवाबी चली गई और राजाओं की राजाईयत चली गई. जो कभी अंग्रेजों के बस्ते उठाया करते थे, वो अब फिल्म का विरोध कर रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi