S M L

आयुष्मान भारतः क्या है ये योजना, जान लें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

इस योजना के जरिए देश के 10 करोड़ परिवार इसका लाभ उठा सकेंगे, उन्हें प्रति वर्ष 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाएगा

Updated On: Sep 23, 2018 02:07 PM IST

FP Staff

0
आयुष्मान भारतः क्या है ये योजना, जान लें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज केंद्र सरकार के आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ करेंगे. इस योजना के जरिए देश के 10 करोड़ परिवार इसका लाभ उठा सकेंगे. उन्हें प्रति वर्ष 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाएगा. अब सबसे बड़ी बात यह है कि आखिर क्या है ये आयुष्मान भारत योजना और कौन से लोग इसका फायदा उठा सकेंगे और कैसे, आइए आपको बताते हैं....

क्या है आयुष्मान भारत योजना? 

'आयुष्मान भारत' एक ऐसी योजना है जिसके तहत देश के 10 करोड़ परिवार स्वास्थ्य आश्वासन का लाभ उठा सकेंगे. उन्हें प्रति वर्ष 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाएगा. सोशियो इकोनॉमिक कास्ट सेंसस के डेटा के मुताबिक इस योजना के अंतर्गत 8.03 करोड़ ग्रामीण और 2.33 करोड़ शहरी इलाकों के लोगों को लाभ मिलेगा. इस योजना के तहत गरीबों, वंचित ग्रामीण परिवारों और बेरोजगारों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से निपटने का मौका मिलेगा. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस स्कीम के अंतर्गत 1354 पैकेज निर्धारित किए हैं जिनमें कोरोनरी बाईपास, नी रिपलेसमेंट (घुटने बदलना) और स्टेंटिंग मौजूद है. इसके अलावा कुछ और इलाजों पर सेंट्रल गर्वंमेंट हेल्थ स्कीम (सीजीएचएस) की तुलना में 15 से 20 फीसदी कम खर्च देना होगा. इस स्कीम के तहत इलाज के समय कोई पैसा या कोई पेपर जमा करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. ये सब बाद में जमा होंगे. योजना के अंतर्गत आने वाले लोगों को सूची में दर्ज सरकारी और प्रावेट अस्पतालों में इलाज का पूरा मौका मिलेगा.

कौन और कैसे लेंगे इसका लाभ

एसईसीसी डेटाबेस के आधार पर लोगों की सूची तैयार की जाएगी. ग्रामीण इलाकों में योजना के जरूरतमंद लोगों को कई कैटेगरियों (D1, D2, D3, D4, D5, and D7) में बांटा जाएगा. वहीं शहरी इलाकों में 11 प्रकार की नौकरियों के आधार पर लोगों को बांटा जाएगा.

इस योजना में परिवार का साइज और रोगी की उम्र कोई माइने नहीं रखती. इय योजना में आधार कार्ड बिल्कुल जरूरी नहीं है. राशन कार्ड और वोटर आई कार्ड की मदद से रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है और योजना का लाभ उठाया जा सकता है.

स्वास्थ्य बीमा के पैनल में शामिल किसी भी अस्पताल से बिना पैसे दिए (कैशलेस) इलाज होगा. ये अस्पताल सरकारी और प्राइवेट कोई भी हो सकता है. आयुष्मान भारत योजना के लिए नीति आयोग कैशलेस या पेपरलेस इलाज के लिए आईटी फ्रेमवर्क विकसित करेगा.

आयुष्मान भारत- नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन मिशन (एबी-एनएचपीएम) को लागू करने वाली नेशनल हेल्थ एजेंसी (एनएचए) ने एक वेबसाइट तथा हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है, जिसके जरिए यह पता किया जा सकता है कि लाभार्थियों की अंतिम सूची में किसी व्यक्ति का नाम है या नहीं. इसके लिए कोई व्यक्ति आयुष्मान भारत की वेबसाइट mera.pmjay.gov.in पर अपना नाम चेक कर सकता है या फिर हेल्पलाइन नंबर 14555 पर कॉल भी कर सकता है. लाभार्थी को अपना मोबाइल नंबर दर्ज कराना होगा, जिस पर ओटीपी के जरिए सत्यापन होगा और उसके बाद बिना किसी दस्तावेज के केवाईसी की ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी की जाएगी.

आयुष्मान भारत योजना की देश के कर्इ राज्यों और जिलों में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरुआत हो चुकी है. ऐसे में लाभार्थियों की मदद करने के लिए आयुष्मान मित्र भी तैनात किए गए हैं. ये आयुष्मान मित्र आयुष्मान स्वास्थ्य योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की मदद करेंगे. वह लाभार्थी व अस्पताल के बीच समन्वय स्थापित करेंगे.

सभी लाभार्थियों को क्यूआर कोड वाले पत्र दिए जाएंगे जिन्हें स्कैन किया जाएगा और उनकी पहचान के लिए एक जनसांख्यिकीय प्रमाणीकरण रखा जाएगा जो कि यह बताएगा कि ये लोग इस स्कीम का लाभ उठा सकते हैं या नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi