S M L

खिचड़ी, दलिया और टीवी के सहारे उम्र के आगे 'अटल'

आडवाणी अक्सर अपनी आंखों में आंसू लिए अटलजी के घर से वापस लौटते हैं.

Updated On: Dec 25, 2016 12:46 PM IST

FP Staff

0
खिचड़ी, दलिया और टीवी के सहारे उम्र के आगे 'अटल'

लिखने और पढ़ने के शौक के लिए जाने जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी इन दिनों टीवी पर समाचार देखने के लिए मजबूर हैं. 92 साल के वाजपेयी अखबार भी नहीं पढ़ पा रहे. बाहरी दुनिया की खबर उन्हें टीवी चैनलों और अपने सहयोगी शिव कुमार से मिलती है.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के खराब स्वास्थ को लेकर अफवाहें उड़ती रहती हैं. इन अफवाहों को शांत करने के लिए हमारे सहयोगी चैनल ईटीवी प्रदेश18 ने वाजपेयी की देखभाल करने वाले शिव कुमार से फोन पर बात की.

शिवकुमार पिछले पचास सालों से अटलजी की देखभाल कर रहे हैं. उन्होने बताया कि वो अपनी उम्र के सामने ‘अटल’ हैं और अपनी दिनचर्या सामान्य रूप से जी रहे हैं. वो इन दिनों दलिया, खिचड़ी और दूध के साथ ब्रेड खाते हैं. अखबार न पढ़ पाने की वजह से वो टीवी पर समाचार देखते हैं.

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी रविवार को 92 साल के हो गए. गैर-कांग्रेसी काल के सबसे लोकप्रिय पीएम के स्वास्थ्य के बारे में उनके चाहने वाले ही नहीं विपक्षी भी चिंतित रहते हैं. वाजपेयी की देखभाल उनके पांच दशक पुराने सहयोगी शिव कुमार करते हैं.

शिव कुमार के मुताबिक अटलजी ज्यादातर वक्त बिस्तर पर लेट कर ही बिताते हैं. रोज सुबह तकरीबन 7-8 बजे उठते हैं. इसके बाद उनके फिजियोथेरेपिस्ट उन्हें एक्सरसाइज करवाते हैं.

12 बजे हल्के खाने में दलिया या खिचड़ी लेकर दो बजे तक आराम करते हैं. वाजपेयी शाम पांच बजे से टीवी देखते हैं.

AtalBihariVajpayee

किसी को पहचानने में अटलजी को दिक्कत होती है. शिवकुमार के मुताबिक लालकृष्ण आडवाणी महीने में दो बार अटलजी का हालचाल जानने आते हैं. आडवाणी अक्सर अपनी आंखों में आंसू लिए अटलजी के घर से वापस लौटते हैं.

आडवाणी के अलावा गृह मंत्री राजनाथ सिंह और दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद भी अक्सर अटलजी से मिलने आते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi