S M L

नायपॉल के निधन पर रश्दी ने कहा, मैंने प्यारे बड़े भाई को खो दिया

लेखक और कवि जीत थायिल ने नायपॉल को एक अलग अंदाज का व्यक्ति और शानदार लेखक बताते हुए कहा कि उनका निधन पिता को खोने जैसा है

Bhasha Updated On: Aug 12, 2018 05:47 PM IST

0
नायपॉल के निधन पर रश्दी ने कहा, मैंने प्यारे बड़े भाई को खो दिया

मशहूर लेखक सलमान रश्दी ने प्रख्यात उपन्यासकार वी एस नायपॉल के निधन पर शोक जताते हुए कहा है कि उन्होंने अपने प्यारे बड़े भाई को खो दिया है. वहीं, कई और लेखकों ने कहा कि नायपॉल उन महान लेखकों में से एक थे जिनकी कलम खुल कर बोलती थी.

नायपॉल के परिवार ने रविवार को घोषणा की कि लंदन में उनका 85 साल की उम्र में निधन हो गया.

भारतीय मूल के ब्रिटिश उपन्यासकार सलमान रश्दी ने ट्वीट कर कहा, ‘हम अपने जीवन के बारे में, राजनीति के बारे में और साहित्य के बारे में असहमत थे. मुझे दुख हो रहा है जैसे मैंने अभी अपने एक प्यारे बड़े भाई को खो दिया है. आपकी आत्मा को शांति मिले.’

लेखक और कवि जीत थायिल ने नायपॉल को एक अलग अंदाज का व्यक्ति और शानदार लेखक बताते हुए कहा कि उनका निधन पिता को खोने जैसा है. जयपुर साहित्य महोत्सव के आयोजकों में से एक संजय के राय ने ट्वीट किया कि उनकी कमी हमेशा महसूस होगी.

नोबेल प्राइज ने भी ट्वीट कर लेखक को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा, ‘साहित्य के क्षेत्र में 2001 में नोबेल पुरस्कार विजेता वी एस नायपॉल याद आ रहे हैं जिनके शब्दों ने हमें इस बेहतरीन इतिहासकार की मौजूदगी का अहसास कराया.’

नायपॉल को 2001 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था. उन्होंने 1971 में मैन बूकर पुरस्कार जीता था. साहित्य में खास सेवाओं के लिए 1990 में उन्हें नाइटहुड से सम्मानित किया गया था. लेखक अमिताभ घोष ने उन पर लिखे एक लेख का लिंक शेयर करते हए ट्वीट किया है, ‘आरआईपी वी एस नायपॉल.’

इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने भी नायपॉल को याद किया. ब्रिटिश उपन्यासकार हरि कुंजरू ने कई ट्वीट कर नायपॉल को याद किया और कुछ यादगार साझा किया है. पेंगुइन रैंडम हाउस इंडिया के हिंदी प्रकाशन की प्रभारी वैशाली माथुर ने कहा, ‘हमारी हिंदी की लिस्ट में नायपॉल की किताबों का गौरवपूर्ण स्थान है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi