S M L

तस्वीरों में देखें, वाजपेयी के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का कैसे लगा तांता

वाजपेयी के निधन को बड़ी क्षति बताते हुए उनके परिवार के सदस्यों ने आज कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री के जाने से एक ऐसा शून्य पैदा हो गया है जिसे भरना नामुमकिन है

Updated On: Aug 17, 2018 10:44 AM IST

FP Staff

0
तस्वीरों में देखें, वाजपेयी के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का कैसे लगा तांता
Loading...

अंतिम दर्शन के लिए सुबह से ही सैकड़ों की संख्या में लोग पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के आवास पर पहुंच रहे हैं. नई दिल्ली के लुटियंस जोन में कृष्णा मेनन मार्ग पर स्थित बंगला नंबर 6-ए के आसपास सुरक्षा का भारी बंदोबस्त है. पुलिस और ट्रैफिक पुलिस के साथ-साथ वहां अर्द्धसैनिक बलों के जवानों की भी तैनाती की गई है.

सुरक्षा अधिकारियों के मुताबिक, वाजपेयी के अंतिम दर्शन के लिए उनके आवास के दरवाजे सुबह करीब साढ़े सात बजे खोले गए. वाजपेयी का पार्थिव शरीर भारतीय जनता पार्टी के दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित मुख्यालय पर ले जाया जा रहा है.

पीटीआई फोटो

पीटीआई फोटो

‘राष्ट्रीय स्मृति’ स्थल के लिए उनकी अंतिम यात्रा दोपहर एक बजे शुरू होगी. लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को एम्स में वाजपेयी का निधन हो गया. वह 93 वर्ष के थे.

वाजपेयी को पिता तुल्य बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनके निधन से अपूरणीय क्षति हुई है. टेलीविजन पर प्रसारित एक संक्षिप्त संबोधन में मोदी ने कहा कि वाजपेयी ने अपने नेतृत्व और संघर्ष से जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को मजबूती प्रदान की.

पीटीआई फोटो

पीटीआई फोटो

उन्होंने कहा कि वाजपेयी इन पार्टियों को देश के हर हिस्से तक ले गए और बीजेपी की नीतियां और सिद्धांत का विस्तार लोगों तक किया. उन्होंने कहा कि वाजपेयी का निधन पिता तुल्य संरक्षक का साया सिर से उठने जैसा है. मोदी ने कहा, ‘अटल जी ने मुझे संगठन और शासन के महत्व के बारे में समझाया.’ उन्होंने कहा कि वह जब कभी वाजपेयी से मिलते थे तो वह आत्मीयता के साथ गले लगाते.

वाजपेयी के निधन को बड़ी क्षति बताते हुए उनके परिवार के सदस्यों ने आज कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री के जाने से एक ऐसा शून्य पैदा हो गया है जिसे भरना नामुमकिन है. वाजपेयी का लंबी बीमारी के बाद यहां एम्स में 93 साल की आयु में निधन हो गया. वाजपेयी के भांजे अनूप मिश्रा ने कहा, यह हमारे लिए बड़ी क्षति है और उनके निधन से पैदा शून्य को भरना नामुमकिन है. वाजपेयी के परिवार में उनकी दत्तक पुत्री नमिता कौल भट्टाचार्य भी हैं.

पीटीआई फोटो

पीटीआई फोटो

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के आवास पर पहुंचकर उनको श्रद्धांजलि दी. पार्टी के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष कृष्णा मेनन मार्ग स्थित वाजपेयी के आवास पर सुबह करीब 8:45 बजे पहुंचे और दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की. इससे पहले गुरुवार रात पार्टी की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की थी.

राहुल गांधी ने गुरुवार को वाजपेयी के निधन पर दुख प्रकट करते हुए कहा था, 'आज भारत ने अपना एक महान सपूत खो दिया. वाजपेयी जी को करोड़ों लोग स्नेह और सम्मान देते थे. उनके परिवार और चाहने वालों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं. हम उनकी कमी महसूस करेंगे.'

पीटीआई फोटो

पीटीआई फोटो

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को एक ‘सर्व स्वीकृत नेता’ करार दिया जिन्होंने सार्वजनिक जीवन में भारतीय मूल्य कायम किए. भागवत ने आरएसएस के ट्विटर हैंडल का इस्तेमाल करते हुए ट्वीट किया, ‘वाजपेयी एक प्रखर दृढ़ और सर्व स्वीकृत नेता और महान व्यक्तित्व थे जिन्होंने भारतीय संस्कृति और मूल्यों को राष्ट्र जीवन में प्रतिष्ठित किया.’ उन्होंने कहा कि वाजपेयी के निधन से पैदा हुई शून्यता हमेशा बनी रहेगी.

पीटीआई फोटो

पीटीआई फोटो

भागवत ने कहा, ‘दिवंगत नेता को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करने में हम राष्ट्र के साथ हैं.’ गौरतलब है कि गुरुवार शाम वाजपेयी (93) का दिल्ली स्थित एम्स में निधन हो गया.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi