S M L

बर्ड फ्लू के डर से बेंगलुरु में 900 मुर्गियों को मारा गया, सरकार ने चलाया जागरूकता अभियान

पशुपालन विभाग ने पक्षियों के मृत पाए जाने वाले 1 किलोमीटर क्षेत्र को 'संक्रमित क्षेत्र' और 10 किलोमीटर के दायरे को 'निगरानी क्षेत्र' के तौर पर घोषित किया था. यहां एहतियातन मीट की दुकानों को बंद रखा गया था

Updated On: Jan 07, 2018 12:45 PM IST

FP Staff

0
बर्ड फ्लू के डर से बेंगलुरु में 900 मुर्गियों को मारा गया, सरकार ने चलाया जागरूकता अभियान
Loading...

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में बर्ड फ्लू के डर से सैकड़ों मुर्गे-मुर्गियों को मार दिया गया है.

दरअसल 29 दिसंबर को दशराहल्ली इलाके में एक चिकन शॉप में पक्षी मृत पाया गया था. लैब टेस्ट में जांच के बाद उसे एच5एन1 वायरस से ग्रसित पाया गया. बेंगलुरु महानगरपालिका के संयुक्त आयुक्त एस नागराजु ने कहा कि मृत पक्षी के सैंपल को भोपाल स्थित लैब भेजा गया था, जहां उसका रिजल्ट पॉजिटिव निकला. बर्ड फ्लू न फैले इसके लिए लगभग 900 पक्षियों को मार दिया गया है.

नागराजु के मुताबिक एच5एन1 वायरस से ग्रसित पक्षी लार, बलगम और मल के जरिए वायरस फैलाते हैं. हालांकि यह वायरस आम तौर पर लोगों को प्रभावित नहीं करता मगर कुछ लोगों को इसके कारण बुखार, दस्त और सांस संबंधित बीमारियां हो सकती हैं.

बीते मंगलवार को पशुपालन विभाग ने मुर्गियों के मृत पाए जाने वाले 1 किलोमीटर क्षेत्र को 'संक्रमित क्षेत्र' और 10 किलोमीटर के दायरे को 'निगरानी क्षेत्र' के तौर पर घोषित किया था. इन इलाकों में एहतियातन मीट की दुकानों को बंद रखा गया था.

पशुपालन विभाग के प्रमुख सचिव राजकुमार खत्री ने कहा कि वह निगरानी क्षेत्र में लगातार जांच कर रहे हैं. खत्री का कहना है कि संक्रमित पक्षियों को मारने के लिए सरकारी प्रकियाओं का पूरी तरह से पालन किया जा रहा है.

प्रभावित मुर्गियों को अलग कर मारा जाता है जिससे कि यह बीमारी औरों तक न फैले.

पशुपालन विभाग ने एडवाइजरी जारी करते हुए लोगों से अपील की है कि वो कुछ दिनों तक कच्चा मीट और अंडों का सेवन ना करें.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi