S M L

बुखार के इलाज में हॉस्पिटल ने थमाया 18 लाख का बिल

अपने सदस्य को गंवाने वाले परिवार को उस समय और सदमा लग गया जब उन्होंने इतनी भारी-भरकम बिल देखा, परिवार ने मामले में जांच की मांग की है

Updated On: Jan 11, 2018 01:16 PM IST

FP Staff

0
बुखार के इलाज में हॉस्पिटल ने थमाया 18 लाख का बिल

अस्पतालों द्वारा मनमानी करने और मरीजों से हद से ज्यादा पैसे वसूलने के मामले इन दिनों लगातार आ रहे हैं. ऐसा ही एक मामला हरियाणा के फरीदाबाद में सामने आया है. यहां पर एक गर्भवती महिला का इलाज चल रहा था. जिसको बुखार की शिकायत थी. इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई. आरोप लगाया जा रहा है कि इलाज के एवज में एशियन हॉस्पिटल ने 22 दिन का 18 लाख रुपए का बिल थमाया है.

अपने सदस्य को गंवाने वाले परिवार को उस समय और सदमा लग गया जब उन्होंने इतना भारी-भरकम बिल देखा. परिवार ने मामले की जांच की मांग की है.

मृतक के चाचा ने बताया कि उसे बुखार था लेकिन उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया था. बाद में हॉस्पिटल ने कहा कि उसे टाइफाइड है. इसके बाद हॉस्पिटल ने कहा कि उसके आंत में छेद है. उन्होंने हमें ऑपरेशन के लिए 3 लाख रुपए जमा करने के लिए कहा और कहा कि पूरी रकम जमा होने के बाद यह किया जाएगा. हमने अब तक 10-12 लाख रुपए जमा किए हैं और हॉस्पिटल हमसे 18 लाख रुपए की मांग कर रहा है.

एशियन हॉस्पिटल के क्वालिटी और सेफ्टी विभाग के चेयरमैन डॉ रमेश चंद्रा ने इस पूरे मामले पर कहा कि महिला 32 सप्ताह की गर्भवती थी. उसे 8-10 दिनों से बुखार था. हमने टाइफाइड पर संदेह किया और आईसीयू में इलाज शुरू किया. उसका बच्चा बच नहीं सकता था. हमने पाया कि उसके आंत में छेद था. इसके लिए सर्जरी की गई थी लेकिन हम उसे बचा नहीं पाए.

इससे पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके है. गुड़गांव के फोर्टिस अस्पताल ने डेंगू के इलाज के लिए 16 लाख का बिल थमाया था. सात साल की बच्ची आद्या को डेंगू के चलते माता-पिता ने फोर्टिस में भर्ती कराया था, जहां 15 दिनों तक इलाज के बाद भी बच्ची की मौत हो गई.

जिसके बाद अस्पताल ने उन्हें 16 लाख का 19 पेज लंबा बिल थमा दिया. इसमें अस्पताल की ओर से 661 सीरिंज, 2,700 ग्लव्स के अलावा और भी कई चीजों को शामिल किया गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi