S M L

पराली समस्या के लिए केजरीवाल ने केंद्र और पड़ोसी राज्यों को ठहराया जिम्मेदार

केजरीवाल ने आशंका जताई कि सर्दियों का मौसम आने पर दिल्ली समेत यह पूरा क्षेत्र फिर से 'गैस चैंबर' बन जाएगा और लोगों को 'सांस लेने में कठिनाई' का सामना करना पड़ेगा

Updated On: Oct 13, 2018 01:23 PM IST

FP Staff

0
पराली समस्या के लिए केजरीवाल ने केंद्र और पड़ोसी राज्यों को ठहराया जिम्मेदार

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पराली जलाने से होने वाली प्रदूषण की समस्या के लिए पंजाब, हरियाणा सरकार के साथ-साथ केंद्र को जिम्मेदार बताया है. उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार के पराली जलाने का मुद्दा बार-बार उठाए जाने के बावजूद केंद्र सरकार, हरियाणा और पंजाब सरकार ने इस पर कोई ठोस कदम नहीं उठाए.

केजरीवाल ने आशंका जताई कि ठंड का मौसम आते ही फिर से दिल्ली समेत यह पूरा क्षेत्र 'गैस चैंबर' बन जाएगा और लोगों को 'सांस लेने में कठिनाई' का सामना करना पड़ेगा.

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘हम केंद्र, हरियाणा और पंजाब सरकारों के साथ इस मामले को उठाते रहे हैं, फिर भी अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए. किसान फिर से असहाय हो गए हैं. दिल्ली समेत पूरा क्षेत्र फिर से गैस चेंबर बन जाएगा. लोगों को फिर से सांस लेने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा। यह अपराध है.'

इस बीच, पंजाब के किसानों ने स्पष्ट कर दिया है कि वो अपने खेतों में पराली जलाना बंद नहीं करेंगे. किसानों ने कहना है कि उनके पास पराली को जलाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. हम सरकार को पराली जलाने पर जुर्माना नहीं लगाने देंगे.

किसानों ने दलील दी कि वातावरण में प्रदूषण पराली जलाने से ज्यादा वाहनों और उद्योगों की वजह से होता है.

बता दें कि पिछले कुछ वर्षों से दिल्ली-एनसीआर की आबो-हवा इस दौरान काफी प्रदूषित हो जाती है. इस वजह से कई दिन तक यहां आसमान में धुंध छाई रहती है और हवा में प्रदूषण के कण घुल जाते हैं. पर्यावरणविद इस समस्या के लिए मुख्य रूप से पंजाब और हरियाणा के खेतों में पराली जलाने को मानते हैं.

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi