S M L

वायरल होती हनुमान की गुस्से वाली तस्वीर का सच क्या है

ये तस्वीर आज की नहीं है बल्कि इसे तीन साल पहले बनाया गया है

FP Staff Updated On: Apr 09, 2018 02:03 PM IST

0
वायरल होती हनुमान की गुस्से वाली तस्वीर का सच क्या है

आमतौर पर हम रामभक्त हनुमान की खुश, हाथ जोड़े या अपना सीना चीरे सौम्य स्वभाव से भरी हुई तस्वीर देखते हैं. मगर हाल ही में उनकी एक गुस्से से भरी तस्वीर भी काफी वायरल हो रही है. लोगों पर इस तस्वीर का खुमार कुछ इस कदर चढ़ चुका है कि केवल सोशल मीडिया पर ही नहीं लोग इस तस्वीर का इस्तेमाल आम जीवन में भी कर रहे है. जैसे अपनी गाड़ियों पर स्टीकर के तौर पर चिपकाना या अपनी टी-शर्ट पर ये तस्वीर बनवाना. लेकिन सवाल ये उठता है कि आखिर ये तस्वीर आई कहां से और हनुमान जी के इस गुस्से वाली तस्वीर के पीछे की कहानी क्या है.

दरअसल ये तस्वीर आज की नहीं है बल्कि इसे तीन साल पहले बनाया गया है. इसको बनाने वाले है करण आचार्य जो केरल के कासरगोड़ जिले के कुंबले गांव में रहते हैं. करण एक ग्राफिक डिजाइनर है. वो बताते हैं कि उन्होंने ये तस्वीर आर्यन नाम के ग्रुप के कहने पर बनाई है. दरअसल ये ग्रुप अपने झंडे को नया लुक देना चाहता था इसलिए करण ने उनके लिए ये तस्वीर बनाई.

इस तस्वीर में सबसे दिलचस्प चीज है हनुमान के हाव भाव जो काफी लोगों को आकर्षित कर रहे हैं. पहली नजर में इस तस्वीर को देखने से लगेगा की हनुमान को गुस्से में दिखाया गया है मगर करण ने इस बारे में खुलासा करते हुए बताया कि उन्होंने हनुमान को इस तस्वीर में टशन (एटिट्यूड) में दिखाने की कोशिश की है न की गुस्से में. हालांकि लोगों को इस तस्वीर में आक्रामकता ही दिखाई दे रही है और लोग इसे पसंद भी कर रहे हैं.

फोटो: न्यूज 18

फोटो: न्यूज 18

इन तस्वीर का इस्तेमाल स्टीकर के रूप में टू व्हीलर और फोर व्हीलर में किया जा रहा है. न्यूज 18 की एक रिपोर्ट के मुताबिक डायमंड के नाम से दुकान चलाने वाले एक युवक ने बताया कि एक-डेढ़ महीने पहले तक इस तरह के स्टीकर की खूब डिमांड आ रही थी. लेकिन अब ये डिमांड कम आ रही है.

बाजार में ही अपनी बाइक पर हनुमानजी की ये तस्वीर लगाकर घूम रहे युवक सचिन ने बताया कि उसने कुछ कार और बाइक पर ये स्टीकर लगा देखा था. सचिन ने बताया कि जब उसने गुस्से वाले हनुमानजी पहली बार देखे थे तो अपनी बाइक में फ्रंट पर लगवा लिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi