S M L

पुलिस की मौजूदगी में हिंदू युवा वाहिनी यूनिवर्सिटी में घुसी थी: AMU सचिव

मोहम्मद फहद ने आरोप लगाया कि जिस समय हिंदू युवा वाहिनी के लोग जबरिया कैंपस में घुसने का प्रयास कर रहे थे, उस समय पूर्व उपराष्ट्रपति उस जगह से बमुश्किल 10 कदम की दूरी पर थे

Updated On: May 06, 2018 09:04 PM IST

FP Staff

0
पुलिस की मौजूदगी में हिंदू युवा वाहिनी यूनिवर्सिटी में घुसी थी: AMU सचिव

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र कैंपस में धरने पर बैठे हैं. इनकी मांग उन लोगों पर कार्रवाई की है, जिन्होंने पुलिस की मौजूदगी में एएमयू में जबरन घुसने की कोशिश की. इस मामले पर न्यूज़18 हिंदी से खास बातचीत में एएमयू स्टूडेंट्स यूनियन के सचिव मो. फहद ने कहा कि एएमयू पर पिछले कुछ समय से लगातार हमले हो रहे हैं. ये हमला भी पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के 2 मई के कार्यक्रम को बर्बाद करने की साजिश था. फहद भी अन्य छात्र नेताओं के साथ पुलिस की कार्रवाई में घायल हो गए थे.

पूर्व उपराष्ट्रपति की सुरक्षा से खिलवाड़

मोहम्मद फहद ने आरोप लगाया कि जिस समय हिंदू युवा वाहिनी के लोग जबरिया कैंपस में घुसने का प्रयास कर रहे थे, उस समय पूर्व उपराष्ट्रपति उस जगह से बमुश्किल 10 कदम की दूरी पर थे. उन्होंने आरोप लगाया कि ये सब कुछ पुलिस की मौजूदगी में हुआ. बाद में इस मामले को लेकर एफआईआर करने जा रहे हमारे नेताओं पर पुलिस के लोगों ने हमला कर दिया. हमारे सिर पर लाठियां बरसाई गई. हमने इसकी जांच की मांग की है. फहद ने कहा कि हम घायल हैं, लेकिन कमज़ोर नहीं, हमारा आंदोलन जारी रहेगा.

'मुद्दा जिन्ना के पोट्रेट का नहीं है, टार्गेट एएमयू है'

छात्रनेता फहद ने कहा कि हम किसी के कहने से कुछ नहीं हटाएंगे, जिन्ना का पोट्रेट हटाने के लिए केंद्र सरकार को लिखकर देना होगा. पुलिस के लाठीचार्ज में 40-45 छात्र घायल हुए हैं, छात्रों पर टार्गेट करके हमला किया गया है. ये मुद्दा जिन्ना के पोट्रेट का नहीं है, टार्गेट एएमयू है.

किसके इशारे पर हुई छात्रों की पिटाई

एएमयू कैंपस में छात्रों पर पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ आंदोलन पर बैठे छात्रों ने कहा कि वे अपनी मांगें पूरी होने तक आंदोलन करेंगे. छात्रनेता मो फहद ने कहा कि सबसे पहले उन लोगों के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की जाए जो पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी पर हमले की नीयत से आए थे. फहद ने कहा कि छात्रों पर हमला करने वाले पुलिस वालों से इस बाबत जवाब मांगा जाए कि उन्होंने किसके इशारे पर इस घटना को अंजाम दिया. इस दौरान वहां मौजूद छात्र-छात्राओं ने कहा कि ये यूनाइटेड एएमयू है जो अब पीछे हटने वाला नहीं है.

(न्यूज़18 के लिए अफसर अहमद, नासिर हुसैन और अंकित फ्रांसिस की ग्राउंड रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi