S M L

2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के प्रति मोदी सरकार प्रतिबद्ध: अमित शाह

अमित शाह ने कहा कि 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य महज एक राजनीतिक बयान नहीं है बल्कि एक मिशन है और इसे प्रतिबद्धता से पूरा किया जाएगा

Bhasha Updated On: Jul 21, 2018 06:05 PM IST

0
2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के प्रति मोदी सरकार प्रतिबद्ध: अमित शाह

किसान के मुद्दे पर विपक्ष के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार का 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य महज एक राजनीतिक बयान नहीं है बल्कि एक मिशन है और इसे प्रतिबद्धता से पूरा किया जाएगा.

कृषि आधारित अर्थव्यवस्था से जुड़ा सुधार- बीमा की भूमिका विषय पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में किसानों के लिए पहली बार केंद्र की बीजेपी सरकार के दौरान ही सर्वस्पर्शी चिंतन की शुरुआत हुई.

उन्होंने कहा कि हमारे किसान विश्व के सर्वाधिक मेहनती किसान हैं. उन्हें बेहतर जीवन जीने का अधिकार और देश के अर्थतंत्र में वर्षों से योगदान देने का पुरस्कार भी मिलना चाहिए, ये हमारी जिम्मेदारी है. किसानों के मुद्दे पर विपक्ष की आलोचलाओं को खारिज करते हुए शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य महज एक राजनीतिक बयान नहीं है बल्कि एक मिशन है. इसकी शुरुआत हो चुकी है.

उन्होंने कहा कि निस्संदेह प्रधानमंत्री के नेतृत्व में हम 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल होंगे. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि जिस दिन किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी, देश की जीडीपी में कृषि का योगदान खुद-ब-खुद 30% हो जाएगा.

उन्होंने कहा कि इससे देश के अर्थतंत्र को बहुत बड़ा लाभ होगा. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना इस दिशा में उठाया गया सबसे महत्वपूर्ण और सर्वस्पर्शी कदम है.

शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने फसल बीमा योजना का कवरेज बुआई से लेकर खलिहान तक बढ़ाया और उसके सभी मानकों में बदलाव लाकर उसे तर्कसंगत बनाया. उन्होंने कहा कि अगले वित्तीय वर्ष तक इस योजना का कवरेज 40% से अधिक हो जाएगा जो भारत जैसे विशाल देश के लिए एक सुखद उपलब्धि है.

सरकार ने एमएसपी को लागत मूल्य का डेढ़ गुना करने का साहसिक निर्णय लिया

अमित शाह ने दावा किया कि साल 2014 से पहले जो फसल बीमा योजनाएं चलती थीं, उनमें वास्तव में बैंकों के रिण का बीमा होता था, वह व्यावहारिक रूप से किसानों और उनकी फसल के लिए तो थी ही नहीं. फसलों के बीमा की शुरुआत तो वर्तमान केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से हुई है.

किसान कल्याण की केंद्र सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने कृषि फसलों की एमएसपी को लागत मूल्य का डेढ़ गुना करने का साहसिक निर्णय लिया. कई फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) तो लागत मूल्य का तीन-तीन, चार-चार गुना तक बढ़ाया गया है.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पहली बार जैविक खादों पर भी सब्सिडी देने का निर्णय लिया है जो भूमि सुधार, किसानों की आय को दुगुना करने और पशुपालन के विकास की दिशा में एक बड़ा कदम साबित होगा. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार सदैव सुधारों एवं सुझावों का स्वागत करती है ताकि योजनाओं को और बेहतर बनाया जा सके.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को और अधिक प्रभावी और लाभकारी बनाने के लिए निरंतर सुझावों और सलाहों पर ईमानदारी से अमल हो रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi