S M L

अमेरिका की भारत को दो टूक: F-16 खरीद लो, नहीं लगाएंगे रूस सौदे के लिए प्रतिबंध

सीएएटीएसए के तहत लगने वाले प्रतिबंधों में छूट के लिए अमेरिका ने भारत को इसी महीने की शुरुआत में एफ-16 खरीदने की पेश कर दी थी

Updated On: Oct 20, 2018 04:31 PM IST

FP Staff

0
अमेरिका की भारत को दो टूक: F-16 खरीद लो, नहीं लगाएंगे रूस सौदे के लिए प्रतिबंध
Loading...

हाल ही में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भारत के दौरे पर थे. इस दौरान दोनों देशों के बीच एस-400 मिसाइस रक्षा सौदे पर समझौता हुआ था. इसे लेकर अमेरिका ने अपने रुख में बदलाव लाया है. उसने कहा कि इस सौदे के कारण अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शन एक्ट (सीएएटीएसए) के तहत लगने वाले प्रतिबंधों से बचने के लिए भारत को इस बात का भरोसा देना चाहिए कि वह अमेरिका से एफ-16 लड़ाकू विमान खरीदेगा. भारत इस विमान को खरीदने के लिए इच्छुक नहीं है क्योंकि यह पहले से ही पाकिस्तान के पास है. भारत ने अबतक इसे खरीदने को लेकर अमेरिका को कोई आश्वासन नहीं दिया है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, सीएएटीएसए के तहत लगने वाले प्रतिबंधों में छूट के लिए अमेरिका ने भारत को इसी महीने की शुरुआत में एफ-16 खरीदने की पेश कर दी थी. इस मामले को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और अमेरिका के रक्षामंत्री जेम्स मैटिस की मुलाकात भी हुई थी.

निर्मला सीतारण इस दिसंबर मध्य तक अमेरिका की पहली द्विपक्षीय यात्रा करने की तैयारी में हैं. लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि मैटिस तब तक अमेरिका का रक्षा मंत्री बने रहेंगे या नहीं. मैटिस सीएएटीएसए के तहत भारत को छूट देने के बड़े समर्थक हैं. इस मुद्दे पर उन्होंने अमेरिकी कांग्रेस में भी बहस की थी. इस मामले में भारत को छूट देने का फैसला अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा लिया जाना है. ट्रंप ने हाल में कहा था कि भारत जो सोच रहा है, उससे पहले ही उसे जवाब मिल जाएगा.

एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम को दुनिया का सबसे आधुनिक और उन्नत मिसाइल रक्षा माना जाता है

रूस निर्मित एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम को दुनिया का सबसे आधुनिक और उन्नत मिसाइल रक्षा माना जाता है

अमेरिकी रक्षा विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि सीएएटीएसए के तहत किसी एक देश को विशेष राहत नहीं दी जाएगी और सीएएटीएसए के तहत राहत पाने के लिए अन्य चीजों की भी जरूरत होगी. इसमें से एक है, उस देश को रूस से हथियार खरीद की अपनी निर्भरता को बड़े मात्रा में कम करना. भारत अगर रूस को एस-400 मिसाइल रक्षा सौदे के लिए 4.5 बिलियन डॉलर का भुगतान करेगा तो वह भी सीएएटीएसए के तहत कार्रवाई झेल सकता है.

अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि रूस के खिलाफ 'मजबूत कार्रवाई' के लिए 'दोनों तरफ से समर्थन' है, और राष्ट्रपति ट्रंप को सीएएटीएसए के तहत छूट देने के लिए भारत के साथ एक अच्छा सौदा करने की आवश्यकता होगी. हालांकि अमेरिका ने भारत को एफ-16 और एफ-18 लड़ाकू विमान खरीदने की पेशकश की है, लेकिन अमेरिका के लिए भारत को एफ-16 का प्रोडक्शन ट्रांसफर करने में आसानी होगी.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi