S M L

उड़ान में देरी के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई: एयर इंडिया

चेयरमैन और एमडी राजीव बंसल ने विभिन्न स्तरों पर लागत कम करने और आनटाइम प्रदर्शन में सुधार के लिए कदम उठाने शुरू कर दिए हैं

Updated On: Sep 03, 2017 08:27 PM IST

Bhasha

0
उड़ान में देरी के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई: एयर इंडिया

एयर इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बंसल ने कर्मचारियों को किसी तरह की लापरवाही और खामी के लिए कड़ी चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि उड़ानों की समय पर रवानगी सुनिश्चित नहीं करने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी.

बंसल को एयर इंडिया के प्रमुख का पद संभाले दो सप्ताह भी नहीं हुए हैं. उन्होंने विभिन्न स्तरों पर लागत कम करने और आनटाइम प्रदर्शन (ओटीपी) में सुधार के लिए कदम उठाने शुरू कर दिए हैं.

बंसल ने पीटीआई भाषा को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘हम अपना प्रदर्शन सुधारने के लिए प्रतिबद्ध तरीके से काम करेंगे. जो ठीक से काम नहीं करेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे.’ बंसल ने जोर देकर कहा कि ग्राउंड हैंडलिंग, क्रू, इन फ्लाइट, इंजीनियरिंग जांच और भोजन की आपूर्ति और अन्य चीजों के बारे में जैसी भी कार्रवाई की जरूरत होगी, वह की जाएगी. उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहे हैं कि उड़ानों में देरी न हो. जो यह सुनिश्चित करने में विफल रहेंगे मैं उनपर कार्रवाई करूंगा. उन्होंने कहा कि इस बारे में संबंधित लोगों को संदेश दे दिया गया है.

बंसल ने कहा, ‘एयर इंडिया के पास कई अच्छे टाइम स्लॉट हैं. यदि उड़ानों की रवानगी समय पर नहीं होती है तो स्लॉट बेकार हो जाएगा.’ आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार जुलाई में चार महानगरों के हवाई अड्डों से एयर इंडिया का ओटीपी 65.5 फीसदी रहा. यह कई घरेलू विमानन कंपनियों की तुलना में काफी कम है. उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि ग्राउंड हैंडलिंग और तकनीकी गड़बड़ी की वजह से उड़ानों में विलंब के लिए जरा भी कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

Air India MD Rajiv Bansal

एयर इंडिया के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक राजीव बंसल

दिल्ली और मुंबई से दिन की पहली उड़ान प्राथमिकता होगी

बंसल ने कहा, ‘एक दिन में 400 उड़ानें होती हैं और मैं सभी पर ध्यान नहीं दे सकता. मेरी प्राथमिकता दिल्ली और मुंबई से दिन की पहली उड़ान होगी. मैं पूरे समय के लिए बेहतर ओटीपी पर ध्यान दे रहा हूं.’ उन्होंने कहा कि समय पर उड़ान के अलावा यात्रियों से प्राप्ति और उपभोक्ता संतुष्टीकरण उनके अन्य प्राथमिकता वाले क्षेत्र हैं.

बंसल ने कहा, ‘हम फेयर मैनेजमेंट सिस्टम में प्रौद्योगिकी उन्नयन में निवेश की योजना बना रहे हैं. यह मूल्य तय करने का ‘टूल’ है. मैं एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस दोनों में यह काम कर रहा हूं.’ एयर इंडिया एक्सप्रेस राष्ट्रीय विमानन कंपनी की कम लागत वाली अंतरराष्ट्रीय इकाई है. यह मुख्य रूप से खाड़ी मार्गों पर परिचालन करती है.

एयरलाइन के विनिवेश की सरकार की तैयारियों के बीच कर्मचारियों के मनोबल को कैसे ऊंचा रखा जाएगा, इस सवाल पर बंसल ने कहा कि निश्चित रूप से इसको लेकर अनिश्चितता है. हालांकि आम भावना यही है कि विनिवेश से नौकरियों में कटौती नहीं होनी चाहिए.

एयर इंडिया पर लगभग 52 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज को बोझ है. कंपनी ने 2016-17 में 105 करोड़ रुपए का परिचालन मुनाफा कमाया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi