S M L

'नोटबंदी के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा में सुधार, कश्मीर में पथराव की घटनाएं हुई कम'

एक नवंबर 2016 से 31 अक्टूबर 2017 के बीच नक्सली हिंसा की 857 वारदात हुई जबकि इससे पिछले साल इसी अवधि में माओवादी हिंसा के 1078 मामले दर्ज किए गए थे

Bhasha Updated On: Dec 19, 2017 08:35 PM IST

0
'नोटबंदी के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा में सुधार, कश्मीर में पथराव की घटनाएं हुई कम'

सरकार ने कहा कि पिछले साल नोटबंदी के ऐलान के बाद से देश में सुरक्षा के हालात में सुधार हुआ है साथ ही सरकार ने यह भी माना कि पिछले साल की तुलना में इस साल जम्मू कश्मीर में आतंकवाद की घटनाएं बढ़ गईं.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि जम्मू कश्मीर में पथराव की घटनाओं में भी काफी कमी आई है.

उन्होंने कहा कि आठ नवंबर, 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उस समय तक चल रहे 1000 और 500 रुपए के पुराने नोटों को बंद करने के ऐलान के बाद से नक्सल प्रभावित इलाकों में माओवादियों और उनके समर्थकों से 90 लाख रुपए के पुराने नोट जब्त किए गए हैं.

मंत्री ने कहा कि पूर्वोत्तर के राज्यों में उग्रवाद में कमी आई है. हालांकि अहीर ने कहा कि जम्मू कश्मीर में एक नवंबर, 2016 से 31 अक्टूबर, 2017 के बीच आतंकवाद की 341 घटनाएं दर्ज की गईं. जबकि पिछले साल इस अवधि में आतंक की 311 घटनाएं घटी थीं.

इसी तरह एक नवंबर 2016 से 31 अक्टूबर 2017 के बीच नक्सली हिंसा की 857 वारदात हुई जबकि इससे पिछले साल इसी अवधि में माओवादी हिंसा के 1078 मामले दर्ज किए गए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi