live
S M L

आजादी के 71 साल बाद उत्तर प्रदेश के इस गांव में पहुंची बिजली

बाराबंकी जिला मुख्यालय से लगभग 60 किलोमीटर दूर सीतापुर बॉर्डर पर स्थित घुंघटेर थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोडरा गांव में बिजली पहुंचने से लोग मानो खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं

Updated On: Jun 26, 2018 04:30 PM IST

FP Staff

0
आजादी के 71 साल बाद उत्तर प्रदेश के इस गांव में पहुंची बिजली

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे बाराबंकी जिले में एक ऐसा गांव था, जहां आजादी के बाद से लोग बिजली आने की राह देख रहे थे. हर चुनाव में राजनेता बिजली लाने का वादा तो करते लेकिन चुनाव बीतने के बाद कोई वहां झांकने भी नहीं जाता. जब इस गांव की हकीकत से सरकार और प्रशासन को रूबरू कराया गया तो हड़कंप मच गया. आनन-फानन में बिजली विभाग के अधिकारियों ने इस गांव में बिजली पहुंचाई.

बाराबंकी जिला मुख्यालय से लगभग 60 किलोमीटर दूर सीतापुर बॉर्डर पर स्थित घुंघटेर थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोडरा गांव है. इस गांव में रहने वाले ग्रामीण मानों खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं. कारण ये है कि आजादी के 70 साल बाद इस गांव में बिजली पहुंची है. बिजली का इंतजार करते-करते गांव में रहने वाले कई ग्रामीण वृद्ध हो गए. दिल में उम्मीद थी कि एक दिन उनके गांव में भी लाइट जरूर आएगी और वह भी ढिबरी के उजाले का सहारा छोड़कर बिजली की चकाचौंध रोशनी में रहेंगे. अब इनका सपना पूरा हो गया है.

गांव में बिजली आने के बाद यहां रहने वाले एक बुजुर्ग की मानो खुशी का ठिकाना नहीं रहा. इनका कहना है कि यहां हमारे गांव में खंबा और तार खिंचे लगभग दो साल हो चुके थे लेकिन बिजली नहीं आई थी. इनका कहना है कि कुछ दिन पहले मीडिया में उनके गांव की बदहाली की खबर दिखाए जाने के बाद हमारे गांव में बिजली पहुंचा दी गई है.

वहीं गांव में बिजली पहुंचने पर बाराबंकी के अपर जिलाधिकारी संदीप कुमार गुप्ता का कहना है कि मैं इसके लिए मीडिया का आभारी हूं कि उनके द्वारा खबर चलाए जाने के बाद मामला हमारे संज्ञान में आया. उसके बाद बिजली विभाग ने तुरंत इस मामले में एक्शन लेते हुए गांव में बिजली पहुंचाने का काम पूरा कराया. हम आगे भी इस तरह के गांव को चिन्हित करेंगे, जहां बिजली नहीं पहुंची है और वहां भी विद्युतीकरण का काम पूरा कराएंगे.

(न्यूज-18 के लिए अनिरुद्ध शुक्ला की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi