Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

तलवार दंपति की रिहाई के खिलाफ SC पहुंची हेमराज की पत्नी

आरुषि व हेमराज की हत्या 15 मई 2008 की रात नोएडा के सेक्टर-25 जलवायु विहार स्थित घर में हुई थी

FP Staff Updated On: Dec 15, 2017 08:52 PM IST

0
तलवार दंपति की रिहाई के खिलाफ SC पहुंची हेमराज की पत्नी

आरुषी-हेमराज मर्डर केस में अब एक नया मोड़ आ गया है. हेमराज की पत्नी ने तलवार दंपति को बरी किए जाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है.

सीबीआई की विशेष अदालत ने आरुषी-हेमराज की हत्या के मामले में तलवार दंपति को 26 नवंबर, 2013 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी. जिसके बाद इस फैसले को तलवार दंपत्ति ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. सीबीआई की दलीलों से कोर्ट संतुष्ट नहीं था. कोर्ट ने कहा कि उन्हें दोषी ठहराने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं है. जिसके बाद राजेश तलवार और नुपूर तलवार को कोर्ट ने इसी साल के अक्टूबर महीने में बरी कर दिया था.

कब-कब क्या हुआ?

आरुषि व हेमराज की हत्या 15 मई 2008 की रात नोएडा के सेक्टर-25 जलवायु विहार स्थित घर में हुई थी. 16 मई की सुबह आरुषि का खून से लथपथ शव उसके कमरे में बिस्तर पर पड़ा मिला था. तलवार दंपति ने इस हत्या का आरोप अपने नौकर हेमराज पर लगाया था. केस में 17 मई की सुबह तब नया मोड़ आ गया, जब हेमराज का भी खून से लथपथ शव तलवार दंपति के फ्लैट की छत से बरामद हुआ.

हत्याकांड में नोएडा पुलिस ने 23 मई को डॉ. राजेश तलवार को बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था. 1 जून को इस केस की जांच सीबीआई को स्थानांतरित हो गई. 9 फरवरी को सीबीआई ने तलवार दंपति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया. सीबीआई की जांच के आधार पर गाजियाबाद सीबीआई कोर्ट ने 26 नवंबर 2013 को हत्या और सबूत मिटाने का दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी. तब से तलवार दंपति जेल में बंद थे. इसी साल के अक्टूबर में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पर्याप्त सबूत नहीं होने के कारण दोनों को बरी कर दिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi