S M L

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामला: अदालत परिसर में ब्रजेश ठाकुर पर महिला ने फेंकी स्याही

चेहरे पर काली स्याही फेंकने के आरोप में पुलिस ने जन अधिकार पार्टी (जैप) की महिला कार्यकर्ता शीतल गुप्ता को हिरासत में ले लिया है

Updated On: Aug 08, 2018 05:17 PM IST

Bhasha

0
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामला: अदालत परिसर में ब्रजेश ठाकुर पर महिला ने फेंकी स्याही

बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में 34 लड़कियों के यौन शोषण मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को बुधवार को अदालत में पेशी के लिए ले जाने के दौरान अदालत परिसर में एक महिला ने उसके चेहरे पर काली स्याही फेंक दी. पुलिस ने इस आरोप में जन अधिकार पार्टी (जैप) की महिला कार्यकर्ता शीतल गुप्ता को हिरासत में ले लिया.

अदालत परिसर में ब्रजेश का विरोध करने पहुंचे जैप के राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता प्रेमचंद सिंह ने अपनी पार्टी की उक्त महिला कार्यकर्ता को बेकसूर बताया और उसे हिरासत में लेकर अदालत में पेशी के लिए लाए गए अन्य अपराधियों के साथ अदालत सेल में रखे जाने के विरोध में ये लोग सेल के सामने धरने पर बैठ गए.

प्रेमचंद ने बताया कि ब्रजेश पर एक दूसरी महिला स्याही फेंककर फरार हो गई और पुलिस ने उसे पकड़ने के बजाए वहां खड़ी उनकी पार्टी की कार्यकर्ता शीतल गुप्ता को हिरासत में ले लिया. उन्होंने बताया कि पुलिस ने महिला कार्यकर्ता को थाने ले जाने के बजाए अदालत में पेशी के लिए लाए गए अन्य दुर्दांत अपराधियों के साथ उन्हें अदालत की सेल में बंद कर दिया है जिस पर उनकी आपत्ति है.

मंजू वर्मा के पति से राजनीतिक मुद्दे पर हुई बातचीत

इससे पहले कैदी वाहन से स्थानीय कारा से अदालत परिसर लाए जाने के बाद जब पत्रकारों ने ब्रजेश ठाकुर से उसके कॉल डिटेल्स में समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा से पिछले पांच महीने में 17 बार फोन पर उनकी बातचीत होने की चर्चा के बारे में पूछा तो ब्रजेश ने कहा कि उनसे राजनीतिक मुद्दों बात हुई है.

ब्रजेश ठाकुर से उनकी स्वयंसेवी संस्थाओं के संचालन के मामले में फरार मधु नाम की महिला के बारे में पूछे जाने पर उसने उससे अपना कोई रिश्ता होने से इनकार किया और कहा कि पूर्व में वह उनके साथ काम करती थी लेकिन बाद में वह अन्यत्र काम करने लगी.

कांग्रेस में जाने की थी तैयारी

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें ऐसा लगता है कि उन्हें राजनीति का शिकार बनाया जा रहा है, ब्रजेश ने कहा कि वे कांग्रेस में जाने की सोच रहे थे और मुजफ्फरपुर से चुनाव लडने के लिए दिल्ली के स्तर पर सब कुछ लगभग तय था संभवत: इसी कारण यह सब हो रहा है.

ब्रजेश के कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडने की मंशा जताए के बारे में पूछे जाने पर बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष काकब कादरी ने कहा कि यह हास्यापद है. ब्रजेश के संबंध जेडीयू और बीजेपी के साथ उजागर हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के किस नेता ने उन्हें टिकट दिलवाने का वादा किया उसका वे नाम उजागर करें.

कांग्रेस का आरोप, जेडीयू ने दबाव डलवाकर दिलाया बयान

कादरी ने जेडीयू पर ब्रजेश पर दबाव देकर उनकी पार्टी की छवि को धूमिल करने के लिए ऐसा बयान दिलवाने का आरोप लगाते हुए कहा कि समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति से बातचीत के उनके काल डिटेल्स मिले हैं जिससे यह स्पष्ट हो गया है कि ब्रजेश के जेडीयू के साथ घनिष्ठ संबंध थे.

यह पूछे जाने पर कि यह कौन कर रहा है ब्रजेश ने पुलिस केस डायरी का हवाला देते हुए कहा कि बालिका गृह की एक भी लडकी ने उनके खिलाफ बयान नहीं दिया है.

ब्रजेश ठाकुर से बालिका गृह की बच्चियों के अपने बयान में हंटर वाले अंकल उन्हें बताए जाने के बारे में पूछे जाने पर ब्रजेश ने इससे इंकार करते हुए कहा कि उन्हीं के हमनाम (ब्रजेश) एक जज वहां आते थे. ब्रजेश नाम होने के कारण मुझे मुहरा बनाया जा रहा है. मैं कभी भी इस मामले में सीधे तौर पर आरोपी नहीं हूं. ब्रजेश से जब उनके अखबार का सर्कुलेशन अधिक दिखाकर लाखों रुपये का सरकारी विज्ञापन हासिल कर लेने के आरोप के बारे में पूछा गया तो उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश के सभी अखबार अपना अपना सर्कुलेशन बढा-चढाकर पेश करते हैं. मेरा छोटा अखबार है और हम उसका प्रकाशन अच्छे ढंग से करते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi