S M L

ऐसा गांव जहां लोग होली के दिन भी नहीं लगाते गुलाल

होली के दिन गांव का ही एक ग्रामीण होली खेलकर पड़ोसी गांव से अपने गांव खरहरी पहुंचा तो उसकी तबीयत अचानक बिगड़ गई और उसकी मृत्यु हो गई

Updated On: Feb 24, 2018 03:15 PM IST

FP Staff

0
ऐसा गांव जहां लोग होली के दिन भी नहीं लगाते गुलाल

होली का नाम लेते ही जहन में रंग-गुलाल और उमंग का ख्याल मन में हिलोरे मारने लगता है, लेकिन कोरबा जिले में एक गांव ऐसा भी है जहां के ग्रामीण पिछले कई दशकों से होली नहीं मनाते. आईए जानते है आखिर कारण क्या है कि ग्रामीण होली खेलना पसंद नहीं करते.

रंग-बिरंगे त्यौहार होली की बात हो और रंग-गुलाल न उड़े यह सुनने में अटपटा जरूर लगता है लेकिन यह सच है कि कोरबा जिले के ग्राम पंचायत पुरेना का आश्रित ग्राम खरहरी के निवासी पिछले कई दशकों से होली नहीं खेलते. चलिए हम आपको बता दें कि आपसी भाई चारे और सामाजिक सौहार्द का पर्व आखिर ग्रामीण क्यों नहीं मनाते है.

ग्रामीणों के अनुसार 151वर्ष पूर्व जब उनके पूर्वजों द्वारा होलिका दहन गांव में किया जा रहा था ठीक उसी समय उनके घर भी जलने लगे और ग्रामीण घरों में लगी आग को किसी दैविय प्रकोप का नतीजा मान बैठे. यही कारण है कि तब से आज तक पूरे गांव में होली के दिन सन्नाटा पसर जाता है.

वहीं कुछ ग्रामीण यह भी बताते हैं कि होली के दिन गांव का ही एक ग्रामीण होली खेलकर पड़ोसी गांव से अपने गांव खरहरी पहुंचा तो उसकी तबीयत अचानक बिगड़ गई और उसकी मृत्यु हो गई. जिससे ये ग्रामीण दहशत में आए और कभी होली न खेलने का प्रण ले लिया.

ग्राम खरहरी के ग्रामीण होली न खेलने के पिछे एक दैविक कारण को भी बताते है कि गांव के करीब में आदिशक्ति मां मड़वारानी का मंदिर स्थित है एक ग्रामीण के अनुसार देवी ने उसे स्वप्न दिया कि उनके गांव के लोग होली न मनाएं और उसी को दैविक भविष्यवाणी मानकर पीढ़ी दर पीढ़ी होली का पर्व न मनाने का यहां के ग्रामीणों ने फैसला कर लिया.

खरहरी गांव में होली न मनाने की परंपरा आज भी कायम है,समाजिक सौहार्द और आपसी भाईचारे का यह पर्व होली जहां एक ओर हर्षोल्लास व उमंग ले कर आता है. लेकिन खरहरी गांव के ग्रामीणों के लिए इस त्यौहार के कोई मायने नही है.

(न्यूज़18 के लिए अब्दुल असलम की रिपोर्ट/ तस्वीर प्रतीकात्मक है)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi