विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

गौरी लंकेश की हत्या पर रहमान ने कहा, 'यह मेरा भारत नहीं'

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की फिल्म जगत ने भी कड़ी निंदा की है

Hemant R Sharma Hemant R Sharma Updated On: Sep 08, 2017 10:59 PM IST

0
गौरी लंकेश की हत्या पर रहमान ने कहा, 'यह मेरा भारत नहीं'

देशप्रेम से भरपूर 'मां तुझे सलाम' और 'वंदेमातरम' जैसी संगीत रचनाएं करने वाले संगीतकार ए. आर. रहमान का कहना है कि यदि पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता गौरी शंकर की हत्या जैसी घटनाएं होती रहेंगी तो यह उनका भारत नहीं है. रहमान ने गुरुवार को मुंबई में अपनी आगामी फिल्म 'वन हार्ट : द ए.आर.रहमान कंसर्ट फिल्म' के प्रीमियर के मौके पर यह बात कही.

वैसे तो रहमान बहुत कम बोलने वालों में से हैं. लेकिन यह बात उन्होंने तब कही है जब उनकी कंसर्ट फिल्म रिलीज होने को तैयार है. बहुत कम मौकों पर वह राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर बोलते हैं.

सोशल साइट्स पर बड़ी संख्या में इस खबर को ट्वीट किया है. कुछ ने रहमान की बातों से सहमति जताई है तो कुछ ने असहमति. एक ने कहा कि फिल्मी सितारों को रिलीज के वक्त ही देश की याद आती है.

गौरी लंकेश की हत्या पर न सिर्फ रहमान बल्कि बॉलीवुड एक्टर स्वरा भास्कर और जीशान अय्यूब ने भी कड़ा गुस्सा जताया था.

बेंगलुरू में गौरी लंकेश की हत्या के बारे में पूछने पर रहमान ने कहा, "मैं यह सुनकर बहुत दुखी हूं. मैं उम्मीद करता हूं कि भारत में ऐसी बातें नहीं होंगी. अगर भारत में ऐसा होता है तो फिर यह मेरा भारत नहीं है. मैं चाहता हूं कि मेरा भारत प्रगतिशील और विनम्र बने."

Gauri Lankesh

'वन हार्ट..' रहमान के उत्तरी अमेरिकी के 14 शहरों में हुए कंसर्ट टूर पर आधारित फिल्म है. इसमें रहमान और उनके बैंड के सदस्यों के साक्षात्कार और उनके रिहर्सल आदि शामिल हैं. इसमें रहमान के निजी व्यक्तित्व की जानकारी भी मिलती है.

रहमान ने कहा कि 'वन हार्ट..' भारत में कंसर्ट आधारित शायद पहली फिल्म है. हम दर्शकों को एक अलग तरह की फिल्म देना चाहते हैं क्योंकि लोगों ने एक्शन, रोमांस, कॉमेडी से भरपूर फिल्में देखी हैं लेकिन बेहतर गुणवत्ता और साउंड की म्यूजिकल फिल्म नहीं देखी है.

रहमान ने कहा, "लोगों को सभी गाने पसंद आ रहे हैं. इस फिल्म से हुई कमाई वन हार्ट फाउंडेशन को जाएगी."

यह पूछने पर कि क्या उन पर किसी तरह की बायोपिक बनने की भी उम्मीद है, रहमान ने कहा, "मैं अभी युवा हूं. शायद मेरे जाने के बाद कोई मुझ पर भी फिल्म बनाए."

एआर रहमान ने 23 साल की उम्र में 1989 में इस्लाम क़बूल किया था. रहमान ने कहा था कि उनके लिए इस्लाम का मतलब साधारण तरीके से जीवन जीना और मानवीयता को सबसे ऊपर रखना है.

उनका कहना था कि 'इस्लाम एक महासागर है. इसमें 70 से ज़्यादा संप्रदाय हैं. मैं सूफी दर्शन का पालन करता हूं जो प्रेम के बारे में है. जो भी हूं वो उस दर्शन की वजह से हूं जिसका मैं और मेरा परिवार पालन करता है. जाहिर है कई चीजें हो रही हैं और मैं महसूस करता हूं कि ये ज्यादातर राजनीतिक हैं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi