S M L

यूपी: पंचायत का फैसला- 'जहां शौचालय नहीं, वहां बेटियों की शादी नहीं'

बिजवाड़ा गांव की पंचायत ने यह भी फैसला किया है कि जहां शौचालय नहीं होगा वहां की बेटियों की शादी वो अपने यहां नहीं करेंगे

Bhasha Updated On: Oct 22, 2017 05:27 PM IST

0
यूपी: पंचायत का फैसला- 'जहां शौचालय नहीं, वहां बेटियों की शादी नहीं'

यूपी के बागपत जिले के बिजवाड़ा गांव की पंचायत ने ‘जिस गांव में शौचालय नहीं, वहां बेटियों का ब्याह नहीं करने’ का ऐतिहासिक फैसला किया है.

बिजवाड़ा के ग्राम प्रधान अरविंद ने रविवार को पंचायत के फैसले की जानकारी देते हुए कहा, 'शौचालय महिलाओं की सबसे बड़ी जरूरत है. यदि कहीं शौचालय नहीं है तो महिलाओं को अंधेरा होने का इंतजार करना पड़ता है. खुले में शौच जाने से कई बार उनकी जान तक पर बन आती है.'

उन्होंने कहा, 'आए दिन हो रही घटनाओं को देखते हुए शनिवार को गांववालों ने पंचायत बुलाई, जिसमें सबकी सहमति से निर्णय लिया गया कि जिस गांव में शौचालय नहीं है, वहां वो अपनी बेटियों की शादी नहीं करेंगे. साथ ही वहां की बेटियों की शादी अपने यहां नहीं करेंगे. नियम के खिलाफ जाने वालों का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा.'

अरविंद ने कहा कि समाज को ध्यान देना होगा कि वह अपनी बहू-बेटियों को शौचालय जरूर दे. अगर किसी के पास आर्थिक दिक्कत है तो वह सरकारी मदद पाकर शौचालय बनवा सकता है.

पंचायत के संचालक रहे तेजपाल सिंह तोमर का कहना है कि सरकार भी देश को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) करना चाहती है इसलिए समाज को मिलकर स्वच्छ भारत मिशन की ओर कदम बढ़ाना होगा. उन्होंने कहा कि बहू-बेटियों को खुले में शौच के लिए भेजना बेहद शर्मनाक बात है. इसे खत्म करने के लिए हम सभी को आगे आना होगा.

शनिवार को भाई दूज के मौके पर बागपत जिले के ही रहने वाले दो भाइयों ने अपनी बहनों को शौचालय गिफ्ट किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
गोल्डन गर्ल मनिका बत्रा और उनके कोच संदीप से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi