S M L

खुद को पीएम मोदी की चाची बताते हुए महिला ने सूचना आयोग का दरवाजा खटखटाया

महिला ने अपने घर के अहाते में चल रही एक सरकारी डिसपेंसरी की लीज को लेकर श्रम मंत्रालय में आरटीआई आवेदन दिया था. इसे पर कोई उचित जवाब न मिलने पर महिला ने खुद को पीएम की चाची बताते हुए अपीलीय प्राधिकरण में गुहार लगाई है

PTI Updated On: Jun 24, 2018 04:17 PM IST

0
खुद को पीएम मोदी की चाची बताते हुए महिला ने सूचना आयोग का दरवाजा खटखटाया

90 साल की एक विधवा महिला ने खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चाची होने का दावा करते हुए प्रशासन का दरवाजा खटखटाया है.

इस महिला ने अपने घर के अहाते में चल रही एक सरकारी डिसपेंसरी की लीज को लेकर श्रम मंत्रालय में आरटीआई आवेदन दिया था. इसे पर कोई उचित जवाब न मिलने पर महिला ने खुद को पीएम की चाची बताते हुए अपीलीय प्राधिकरण में गुहार लगाई है.

इस महिला का नाम दहीबेन नरोत्तमदास मोदी है जिन्होंने डिसपेंसरी मामले की सुनवाई के लिए ईश्वर लाल मोदी को सूचना आयुक्त श्रीधर आचार्युलु के पास भेजा था. दहीबेन का कहना है कि वे अकेली हैं और घर में चलने वाली डिसपेंसरी के 1500 रुपए किराए से उनका गुजारा होता है. डिसपेंसरी की लीज समाप्त हो गई है जिस कारण किराया भी रुक गया है. इसी मामले की सुनवाई के लिए दहीबेन ने श्रम मंत्रालय का दरवाजा खटखटाया है.

लीज दोबारा शुरू करने के लिए वेलफेयर कमिश्नर ने दहीबेन से कुछ जरूरी कागजात मांगे हैं लेकिन वे मुहैया नहीं करा सकीं. उनका कहना है कि वे अब इतनी बुजुर्ग हो चली हैं कि उन्हें पीडब्लूडी और वेलफेयर कमिश्नर दफ्तर के चक्कर काटने में मुश्किल आती है.

इन परेशानियों से तंग आकर और लीज रिन्यू न होता देख दहीबेन ने सेंट्रल पब्लिक इनफॉरमेशन ऑफिसर का दरवाजा खटखटाया. 9 जनवरी, 2018 को लिखे अपने पत्र में दहीबेन ने खुद को पीएम मोदी की चाची बताते हुए कहा है कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिलता है तो इस मामले को वे प्रधानमंत्री दफ्तर तक ले जाएंगी. हालांकि बेन ने पीएम मोदी से अपने रिश्ते के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताया.

बेन की पहली शिकायत अनसुनी किए जाने के बाद उन्होंने मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) को डिसपेंसरी रिन्युअल की शिकायत भेजी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi