S M L

नौसेना में 56 नए जंगी जहाजों और छह पनडुब्बियों को शामिल करने की तैयारी

नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने सोमवार को कहा कि सरकार ने नौसेना में 56 नए जंगी जहाजों और छह पनडुब्बियों को शामिल करने की योजना को मंजूरी दी है.

Updated On: Dec 03, 2018 07:41 PM IST

Bhasha

0
नौसेना में 56 नए जंगी जहाजों और छह पनडुब्बियों को शामिल करने की तैयारी

नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने सोमवार को कहा कि सरकार ने नौसेना में 56 नए जंगी जहाजों और छह पनडुब्बियों को शामिल करने की योजना को मंजूरी दी है. वहीं, देश का पहला स्वदेश निर्मित विमानवाहक पोत विक्रांत अपने निर्माण के अंतिम चरण में पहुंच गया है और इसका समुद्री परीक्षण 2020 में होगा.

नौसेना दिवस की पूर्व संध्या पर एडमिरल लांबा ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सेना के तीनों अंगों के बीच समन्वय सुनिश्चित करने की दिशा में काफी प्रगति हुई है. उन्होंने कहा कि वायुसेना संयुक्त कमान के खिलाफ है. उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि इस दिशा में काम करने से पहले एक उच्च रक्षा संगठन अवश्य ही स्थापित किया जाना चाहिए.

अपनी करीब 70 मिनट की मीडिया ब्रीफिंग में एडमिरल ने नौसेना को आधुनिक बनाने के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों को गिनाया, जिनमें लड़ाकू विमानों और हेलीकॉप्टरों का एक बड़ा बेड़ा भी शामिल है. उन्होंने कहा कि दूसरा स्वदेशी विमानवाहक पोत का निर्माण कार्य तीन साल के अंदर शुरू हो जाने की उम्मीद है.

चीन के अपनी नौसैनिक क्षमता तेजी से बढ़ाने के विषय पर नौसेना प्रमुख ने कहा, '2050 तक, हमारे पास भी 200 जहाज, 500 विमान और एक विश्वस्तरीय नौसेना होगी.' उन्होंने कहा कि 32 जहाज और पनडुब्बी अभी इंडियन शिपयार्ड में निर्माणाधीन हैं और इनके अलावा सरकार ने 56 जहाजों तथा छह पनडुब्बियों को मंजूरी दी है.

नौसेना के दो मोर्चों पर युद्ध लड़ने की क्षमता के बारे में पूछे जाने पर एडमिरल ने कहा कि उनका बल (भारतीय नौसेना) पाकिस्तानी नौसेना से कहीं आगे हैं, जबकि हिंद महासागर में शक्ति संतुलन चीन के मुकाबले भारत के पक्ष में है. हालांकि, उन्होंने कहा कि जहां तक भारतीय नौसेना की बात है हमारे लिए दो मोर्चें नहीं हैं. हमारे लिए एक ही मोर्चा है और वह हिंद महासागर है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi