S M L

30.76 लाख सस्ते आवास के निर्माण को मिली मंजूरी, 4 लाख बन कर तैयार

पुरी ने कहा कि आवास क्षेत्र देश के आर्थिक विकास का इंजन बन गया है साथ ही वर्तमान समय में रोजगार और राजस्व के अवसर भी मुहैया करा रहा है

Updated On: Nov 24, 2017 05:38 PM IST

Bhasha

0
30.76 लाख सस्ते आवास के निर्माण को मिली मंजूरी, 4 लाख बन कर तैयार

केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि सभी को अपना घर मुहैया कराने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहरी क्षेत्रों के लिए अब तक 30.76 लाख सस्ते आवास के निर्माण को मंजूरी मिल गई है. इनमें से 4.13 लाख आवास बन कर तैयार भी हो गए हैं.

उन्होंने बताया कि शहरी क्षेत्रों के लिए 25 जून 2015 को शुरू की गई पीएम आवास योजना के तहत 15.65 लाख घरों का निर्माण कार्य विभिन्न स्तरों पर चल रहा है. उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों के भौगोलिक और सामाजिक आर्थिक विकास को देखते हुए आवास एवं अन्य मूलभूत जरूरतों की आपूर्ति पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है.

आवास क्षेत्र देश के आर्थिक विकास का इंजन बन गया है

पुरी ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में रोजगार, कारोबार और सेवा क्षेत्र की लगातार बढ़ती मांग को देखते हुए आवास की जरूरत भी तेजी से बढ़ी है. इसके मद्देनजर आवास क्षेत्र देश के आर्थिक विकास का इंजन बन गया है. यह न सिर्फ भविष्य में जनसामान्य की आवास जरूरतों की पूर्ति करेगा, बल्कि वर्तमान समय में रोजगार और राजस्व के अवसर भी मुहैया करा रहा है. इससे लोगों के जीवन स्तर में सुधार को स्पष्ट तौर पर महसूस किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर आवास की मौजूदा जरूरत 1.2 करोड़ आंकी गई है. इसे पूरा करने के लिए सरकार ने सस्ते आवास योजना के तहत विभिन्न श्रेणी के घरों के क्षेत्रफल और अन्य मानकों में माकूल बदलाव करते हुए घर खरीदने वालों को कर में छूट देने सहित अन्य प्रोत्साहन देने की पहल की है. जिससे अधिक से अधिक संख्या में खरीददार और निवेशकों को इस योजना से जुड़ने के लिए आकर्षिक किया जा सके.

पुरी ने कहा कि सरकार ने इस योजना में निजी और सार्वजनिक क्षेत्र की भागीदारी (पीपीपी) सुनिश्चित करने के लिए आठ परियोजनाएं शुरु की हैं. इनमें बेहतर निर्माण तकनीक की मदद से कम लागत पर बेहतर गुणवत्ता वाले घरों का निर्माण किया जा रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi