S M L

कश्मीर से आतंक खत्म करने के लिए तीन केंद्रीय मंत्रियों ने बुलंद की आवाज

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने कहा कि राज्यपाल शासन के दौरान राज्य में हालत सुधरेगी और सरकारी सिस्टम लोगों की मदद से आतंकवाद का मुकाबला करेगा

Updated On: Jun 22, 2018 05:09 PM IST

Bhasha

0
कश्मीर से आतंक खत्म करने के लिए तीन केंद्रीय मंत्रियों ने बुलंद की आवाज

तीन केंद्रीय मंत्रियों ने जम्मू कश्मीर को आतंकवाद मुक्त बनाने के लिए आवाज बुलंद की. इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्री हंसराज अहीर ने ऐलान किया, ‘हम इस समस्या को हमेशा के लिए खत्म करना चाहते हैं,’  उन्होंने राज्य में पीडीपी के साथ गठबंधन तोड़ने के फैसले को सही ठहराया जिसकी वजह से प्रदेश में राज्यपाल शासन लगाना पड़ा है.

राज्यपाल एन एन वोहरा ने आतंकवाद प्रभावित राज्य में सुरक्षा चुनौतियों पर चर्चा की और अहीर ने कहा कि केंद्र आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं करेगा और वह घाटी में शांति के लिए कमर कस चुका है.

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने कहा कि राज्यपाल शासन के दौरान राज्य में हालत सुधरेगी और सरकारी सिस्टम लोगों की मदद से आतंकवाद का मुकाबला करेगा. बिजली मंत्री आर के सिंह ने आतंकवाद और राष्ट्र विरोधी ताकतों की पुरजोर मुखालफत करते हुए कहा कि पीडीपी के साथ गठबंधन तोड़ना देशहित में था.

बीजेपी का महबूबा सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद प्रदेश में राज्यपाल शासन लगा दिया गया था. अहीर ने कहा, ‘कश्मीर में अलगाववादी, आतंकवादी या पाकिस्तान जो भी कर रहे हैं .... सरकार इसे बर्दाश्त नहीं करेगी.’

दूसरी ओर महेश शर्मा ने कहा कि राज्यपाल शासन लागू होने के बाद राज्य की हालत में बेहतर बदलाव आएगा. कोलकाता में शर्मा ने पत्रकारों से कहा, ‘यह बदलाव अब नजर आने लगा है. सुरक्षा बल और पुलिस अब ज्यादा भरोसे के साथ काम कर रहे हैं. इस बदलाव का असर जल्द देखा जाएगा.’

बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव कैलाश विजयवर्गीय भी इस योग कार्यक्रम में मौजूद थे. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी गठबंधन न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर बना था लेकिन टिक नहीं सका.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi