S M L

गाजीपुरः हिंसा में अब तक 27 लोग गिरफ्तार, पथराव में हुई थी पुलिसकर्मी की मौत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से लौट रहे वाहनों पर बीते शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया था जिसमें वत्स (48) की मौत हो गई थी

Updated On: Dec 31, 2018 11:45 AM IST

FP Staff

0
गाजीपुरः हिंसा में अब तक 27 लोग गिरफ्तार, पथराव में हुई थी पुलिसकर्मी की मौत

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में एक पुलिसकर्मी की हत्या के सिलसिले में अब तक 27 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने एक ट्वीट में यह स्पष्ट किया था कि मारे गए पुलिसकर्मी सुरेश प्रताप सिंह वत्स हेड कांस्टेबल थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से लौट रहे वाहनों पर बीते शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया था जिसमें वत्स (48) की मौत हो गई थी. वत्स प्रदर्शनकारियों द्वारा लगाया हुआ ट्रैफिक जाम खुलवाने गए थे, उसी दौरान एक पत्थर उनके सिर पर लगा.

लोग कार्यक्रम स्थल से निकल रहे वाहनों पर पथराव करने लगे

गाजीपुर के पुलिस अधीक्षक यशवीर सिंह के अनुसार, 'प्रदर्शनकारी राष्ट्रीय निशाद पार्टी के कार्यकर्ता थे जिन्हें पुलिस ने रैली स्थल पर जाने से मना कर दिया था. उन्होंने बीते शनिवार को बताया कि प्रधानमंत्री के गाजीपुर से निकलने के बाद प्रदर्शनकारियों ने विभिन्न स्थानों पर सड़कें जाम कर दीं और कार्यक्रम स्थल से निकल रहे वाहनों पर पथराव करने लगे.

यूपी सरकार ने 50 लाख रुपए के मुआवजे का किया ऐलान

पत्थरबाजी में मारे गए पुलिसकर्मी के परिवार के लिए यूपी सरकार ने 50 लाख रुपए के मुआवजे का ऐलान किया है. वत्स की पत्नी को 40 लाख रुपए और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपए की मदद दी जाएगी. यहीं नहीं मुकेश की पत्नी को असाधारण पेंशन और परिवार के एक सदस्य को मृतक आश्रित के तौर पर सरकारी नौकरी देने का भी ऐलान किया गया है. परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी.

मेरे पिता के हत्यारों को फांसी की सजा होनी चाहिए

वहीं रविवार की शाम उनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव प्रतापगढ़ पहुंचाया गया जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. इस भावुक पल पर दिवंगत वत्स की बेटी ने अपने पिता की मौत पर दुख जाहिर किया. उन्होंने न्याय की मांग करते हुए कहा, 'मुझे न्याय चाहिए. मैं मांग करती हूं कि मेरे पिता के हत्यारों को फांसी की सजा होनी चाहिए.' इसी के साथ उन्होंने सवाल करते हुए कहा, 'वह ड्यूटी से लौट रहे थे, तब उन्हें क्यों मारा गया?'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi