S M L

जमानत के बाद भी तिहाड़ में 253 कैदी बंद, हाईकोर्ट ने जताया दुख

विधि आयोग की सिफारिशों के बावजूद 253 विचाराधीन कैदी जमानत मिलने के बाद भी तिहाड़ जेल में बंद हैं

Bhasha Updated On: Dec 17, 2017 12:04 PM IST

0
जमानत के बाद भी तिहाड़ में 253 कैदी बंद, हाईकोर्ट ने जताया दुख

दिल्ली हाईकोर्ट का कहना है कि वो जमानत मिलने के बावजूद गरीबी की वजह से मुचलका या जमानत राशि नहीं भर पाने के कारण तिहाड़ जेल में बंद विचाराधीन कैदियों को देखकर बेहद ‘दुखी’ है. अदालत ने ऐसे बंदियों को राहत पहुंचाने के लक्ष्य से निचली अदालतों के लिए दिशा-निर्देश भी जारी किए.

कार्यवाहक चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी. हरिशंकर की पीठ ने कहा कि हाईकोर्ट ने अपने विभिन्न फैसलों में कहा है कि गंभीर अपराध करने वाले कैदियों के मौलिक अधिकारों को भी किसी सूरत में नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.

कोर्ट ने कहा कि विधि आयोग ने भी जमानत शर्तों को पूरा नहीं कर पाने के कारण जेलों में बंद विचाराधीन कैदियों से हो सकने वाले खतरों का आकलन करने को कहा है, ताकि उन्हें रिहा किया जा सके.

जमानत के बाद भी पैसों के अभाव में हैं जेल में बंद 

वकील अजय वर्मा की ओर से कोर्ट में दायर जनहित याचिका में जमानत के बावजूद तिहाड़ जेल में सैकड़ों बंदियों के निरूद्ध होने की बात कहे जाने के बाद अदालत ने ये निर्देश दिए हैं.

पीठ ने कहा, ‘हमें इस बात का बहुत दुख है कि इस संबंध में हाईकोर्ट की ओर से स्पष्ट रूप से तय कानून के साथ विधि आयोग की सिफारिशों के बावजूद 253 विचाराधीन कैदी जमानत मिलने के बावजूद तिहाड़ जेल में बंद हैं, और इसी वजह से ये आदेश देना पड़ा है.’

अदालत ने निचली अदालतों को निर्देश दिया है कि वो ऐसे मामलों में ज्यादा संवेदनशील और सतर्क रहें कि इन विचाराधीन कैदियों को जमानत पर रिहा क्यों नहीं किया जा सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi