S M L

देसी जुगाड़: 11वीं के छात्र ने गमले-बांस से बनाया वाई-फाई जोन

रोशन ने बिना नेटवर्क वाले इलाके के लिए नई नेटवर्क प्रणाली का आविष्कार किया है

FP Staff Updated On: Mar 24, 2017 08:35 AM IST

0
देसी जुगाड़: 11वीं के छात्र ने गमले-बांस से बनाया वाई-फाई जोन

क्या नेटवर्क की कमी सताती है? अगर हां, तो आप भी इस जुगाड़ के बारे में सोच सकते हैं जिसका आविष्कार कांकेर जिले के 15 साल के छात्र किया है. रोशन ने बिना नेटवर्क वाले इलाके के लिए नई नेटवर्क प्रणाली का आविष्कार किया है. रोशन बढ़ाई नाम का यह छात्र बांदे क्षेत्र कोयलीबेडा ब्लॉक के एक गांव का रहने वाला है.

पखांजूर सरस्वती शिशु मंदिर विद्यालय के कक्षा 11वीं में पढ़ने वाले रोशन ने अपने नए स्मार्ट फोन के लिए वाई-फाई की आवश्यकता को पूरा करने के लिए इस प्रणाली का आविष्कार किया है. रोशन के गांव में मोबाईल नेटवर्क नहीं है जिसके चलते वहां के लोग इंटरनेट- मोबाइल सुविधाओं से वंचित रहते हैं.

Roshan

रोशन ने नया मोबाइल फोन लिया तो उसे अपने गांव में इंटरनेट की उपलब्धता न होने की बात चुभने लगी. इसके बाद रोशन ने एक स्टील के गमले, वाई-फाई डोंगल, अडेप्टर चार्जर, तार और एक लंबे बांस के जरिए अपने घर के आसपास के 100 मीटर के क्षेत्र को वाई-फाई जोन बना दिया. इस जुगाड़ के लिए मात्र 200 रुपए का खर्च आया.

Stars

जिस गांव में मोबाईल नेटवर्क तक ठीक से नहीं आता था, वहां अब रोशन के इस छोटे मगर बेहद खास आविष्कार के चलते बेहतर स्पीड के साथ इन्टरनेट की सुविधा ली जा रही है. यहां तक कि यह लोग अब बेहतर स्पीड के साथ ऑनलाइन वीडियो भी देखने लगे हैं. परलकोट के लगभग 75 गांवों में मोबाईल नेटवर्क नहीं है जिसके चलते लोग इंटरनेट की सुविधा से आज तक अछूते हैं.

रोशन के इस उपकरण की सहायता से अब शहर से अंदर बसे गांवों में भी इंटरनेट की सुविधा ली जा सकती है. यही नहीं, इस उपकरण के द्वारा मोबाइल इंटरनेट स्पीड को बढ़ाया भी जा सकता है.

(ईटीवी एमपी/छत्तीसगढ़)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi