S M L

दिल्ली: मकान बनाने के लिए कटेंगे 14 हजार पेड़, 'आप' के विरोध पर शहरी मंत्रालय की सफाई

सरोजिनी नगर में 11,913 में से 8,322 पेड़ काटे जाएंगे जबकि नौरोजी नगर में 1,513 में से 1,465 पेड़ काटे जाएंगे

FP Staff Updated On: Jun 24, 2018 11:26 AM IST

0
दिल्ली: मकान बनाने के लिए कटेंगे 14 हजार पेड़, 'आप' के विरोध पर शहरी मंत्रालय की सफाई

बढ़ते प्रदूषण और पर्यावरण की रक्षा के लिए अक्सर पेड़-पौधे लगाने की बात कही जाती है. लेकिन देश की राजधानी दिल्ली के कई इलाके में विकास और मकान बनाने के नाम पर हजारों पेड़ काटने की तैयारी है.

दक्षिण दिल्ली की 7 कॉलोनियों के पुनर्विकास के लिए करीब 14 हजार पेड़ काटे जाने की योजना है. सरकार ने आवासीय और शहरी विकास मंत्रालय की पुनर्विकास की योजना के तौर पर नौरोजी नगर, नेताजी नगर, सरोजिनी नगर, मोहम्मदपुर, श्रीनिवासपुरी, कस्तूरबा नगर और त्यागराज नगर में करीब 17 हजार पेड़ काटे जाने की रिपोर्टों के जवाब में एक बयान में कहा, ‘मौजूदा 21,040 पेड़ों में से 14,031 पेड़ काटे जाने हैं.’

'आप' का आरोप

केंद्र सरकार के इस कदम का आम आदमी पार्टी ने विरोध किया है. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा, सरकारी आवास बनाने के नाम पर दक्षिणी दिल्ली के किदवई नगर में 1123, नेताजीनगर इलाके में 2294, नैरोजीनगर में 1454, मोहम्मदपुर में 363 जबकि सरोजनी नगर में 11 हजार पेड़ काटे जाने हैं.

आप ने इस फैसले के खिलाफ दिल्ली की जनता से सहयोग मांगा है. उनसे रविवार शाम को सरोजिनी नगर पुलिस स्टेशन पहुंचकर अपना विरोध दर्ज कराने की अपील की गई है.

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता ने इस कदम के लिए केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि हरदीप सिंह वही मंत्री हैं जिन्होंने मेट्रो किराए में बढ़ोतरी को सही ठहराया था, जिसकी वजह से मेट्रो में यात्रियों की संख्या काफी घट गई है.

शहरी मंत्रालय ने दिया जवाब

दूसरी ओर शहरी विकास राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने आप के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है. पुरी ने यह भी कहा कि एक पेड़ के बदले दस पेड़ लगाए जाएंगे जिससे दिल्ली के हरित क्षेत्र में तीन गुना इजाफा होगा.

पुरी ने आप को जवाब देते हुए कहा कि पेड़ों की आज जितनी संख्या है उसमें एक पेड़ भी कम नहीं होगा और हरित क्षेत्र में तीन गुना बढ़ोतरी होगी.

कहां कितने कटेंगे पेड़

शहरी विकास मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा कि पुनर्विकास से हरियाली वाले इलाके में करीब तीन गुना वृद्धि होगी और जो पेड़ काटे जाएंगे उनके बदले में 1:10 की दर से पौधरोपण किया जाएगा. मंत्रालय ने कहा कि 1,35,460 पेड़ लगाए जाएंगे जिससे शहर में प्रदूषण का स्तर कम करने में मदद मिलेगी.

सरोजिनी नगर में 11,913 में से 8,322 पेड़ काटे जाएंगे जबकि नौरोजी नगर में 1,513 में से 1,465 पेड़ काटे जाएंगे. बयान में कहा गया है कि नेताजी नगर में 3,906 पेड़ों में से 2,315 पेड़ काटे जाएंगे जबकि मोहम्मदपुर में 562 पेड़ काटे जाएंगे. कस्तूरबा नगर में 723, श्रीनिवासपुरी में 750 और त्यागराज नगर में 93 पेड़ काटे जाएंगे.

(इनपुट भाषा से)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi