S M L

टेरर फंडिंग करने वाले 10 संदिग्ध ATS की हिरासत में भेजे गए

यूपी एटीएस ने पिछले दिनों 10 में से 9 आरोपियों को प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से गिरफ्तार किया था

Updated On: Mar 28, 2018 04:48 PM IST

Bhasha

0
टेरर फंडिंग करने वाले 10 संदिग्ध ATS की हिरासत में भेजे गए

विशेष अदालत ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से कथित संपर्क रखने और आतंकियों को धन मुहैया (फंडिंग) कराने में शामिल 10 आरोपियों को पूछताछ के लिए आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) की हिरासत में भेज दिया है.

बुधवार को विशेष जज रीमा मल्होत्रा ने आरोपियों को पूछताछ के लिए एटीएस की हिरासत में भेजा.

एटीएस ने आरोपियों की पासबुक और एटीएम कार्ड जब्त करने और उनसे पूछताछ के लिए 7 दिन की हिरासत मांगी थी.

पिछले दिनों 9 आरोपियों को उत्तर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से गिरफ्तार किया गया था. जिसके बाद उन्हें 25 मार्च को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था. वहीं दसवें आरोपी उमा प्रताप सिंह उर्फ सौरभ मध्य प्रदेश से ट्रांजिट रिमांड पर लाकर यहां पेश किया गया.

एटीएस ने 22 मार्च को एफआईआर दर्ज की थी और पूछताछ के दौरान पकड़े गए आरोपियों से कई एटीएम कार्ड, 42 लाख रुपए कैश, स्वैप मशीन, मैग्नेटिक कार्ड रीडर, 3 लैपटाप, विभिन्न बैंकों की पासबुक, तमंचा और कारतूस बरामद किए थे.

एटीएस के महानिरीक्षक असीम अरूण ने बताया था कि 3 लोग पाकिस्तान के इशारे पर आतंकी फंडिंग में शामिल थे.

गिरफ्तार लोगों की पहचान नसीम अहमद, नईम अरशद, संजय सरोज, नीरज मिश्र, साहिल मसीह, उमा प्रताप सिंह, मुकेश प्रसाद, निखिल राय उर्फ मुशर्रफ अंसारी, अंकुर राय और दयानंद यादव के रूप में हुई है.

अरूण ने बताया कि लश्कर का एक सदस्य आरोपियों के संपर्क में था और उसने ही उन्हें फर्जी नाम से बैंक खाते खोलने के लिए कहा था. लश्कर का वही संपर्क आरोपियों को निर्देश देता था कि किस खाते में कितना धन जाना है. भारतीय एजेंट को इसके लिए 10 से 20 फीसदी कमिशन मिलता था. अब तक एक करोड़ रूपए के लेनदेन की बात सामने आई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi