S M L

होली 2017: बुरा ना मानो ये भोजपुरिया होली है..!

होली पर खूब फलता फूलता है भोजपुरी गीतों में अश्लीलता का कारोबार

Updated On: Mar 13, 2017 11:27 AM IST

Sunita Pandey

0
होली 2017: बुरा ना मानो ये भोजपुरिया होली है..!

फागुन का मस्‍त महीना आते ही पूरे देश पर होली का खुमार चढ़ने लगता है. रंग और उल्लास के इस मौसम में खासकर भोजपुरी प्रदेशों की रौनक देखते ही बनती है. ऐसे में भोजपुरी गाना होली के मूड को और रंगीन बना देता है.

बाजार भोजपुरी गानों के नए-नए अल्बम से पट जाते हैं. इस समय भोजपुरी गीत-संगीत का बाजार अपने चरम पर है. हर साल की तरह इस साल भी बड़े-छोटे गायकों ने अपना अल्बम बाजार में उतारा है. जिसमें दिनेश लाल यादव, पवन सिंह, मनोज तिवारी, छोटू छलिया और कल्पना पोटवारी से लेकर चंदन चमकीला तक जैसे सिंगर शामिल हैं.

pawan singh

एक अनुमान के मुताबिक़ होली के समय इन अल्बम्स का कुल टर्नओवर करोड़ों रुपयों का होता है. इसके अलावा यूट्यूब चैनल्स पर होली से जुड़े गानों के सर्च की होड़-सी मच जाती है.

Dineshlal Yadav

इस साल के कुछ ख़ास होली अल्बम की बात करें तो इनमें पवन सिंह का 'हीरो के होली', पवन वर्मा का 'गुलब्बो के गाल', रजनीश का 'होली में हॉट लागेलू, गायिका देवी का दिलवाला होली, कल्पना पटवारी का 'जहिया से जियो सिम आईल बा', निरंजन बिहारी का 'देवर के होली', एक्टर और सिंगर दिनेशलाल यादव का 'पुरन की बीबी बंद कर हो मोदी जी' के एल्बम के अलावा एक्टर खेसारीलाल यादव, अरविंद अकेला 'कल्लू' और निशा दूबे के एल्बम को भी लोग पसंद कर रहे हैं.

Amrapali Dubey

होली में वैसे तो थोड़े-बहुत फूहड़ शब्दों के इस्तेमाल की छूट हर जगह बनी रहती है, लेकिन भोजपुरी एल्बमों की खासियत ये होती है कि इनके टाइटल्स से लेकर गानों के बोल तक में द्विअर्थी शब्दों की भरमार होती है.

Holi me hot

मसलन भोजपुरी एक्ट्रेस आम्रपाली दुबे और अक्षरा सिंह का वायरल होता वीडियो, जिसका टाईटल है-‘होली में चुवे लागल गगरी’. इसके अलावा ‘ओवरलोड पिचकारी’, ‘हउ काम कइलीं’, ‘होली के सीजन में मिजाज गड़बड़ाइल बा’ जैसे अश्‍लील टाइटल गानों का ही क्रेज है.

Dilwala holi

इसमें डबल मीनिंग शब्‍द ठूंसे गए होते हैं और अब यही भोजपुरी होली गीतों की पहचान बनती जा रही है, इनमें अश्‍लीलता और फूहड़पन को आप एक्‍सट्रीम लेवल पर ही पाएंगे. मजे की बात ये है कि होली के मौसम में इस तरह की फूहड़ता को अक्सर ये कहते हुए नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है कि- 'बुरा ना मानो होली है'. यानि होली के बहाने काम कुंठा का भोंडा प्रदर्शन भी क्षम्य हो जाता है.

भोजपुरी अभिनेता रवि किशन इस चलन पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहते हैं कि, "चंद रुपयों के लिए अपनी संस्कृति को बेचना बहुत गलत बात है. भोजपुरी के नाम पर कचरा बेचने की इस प्रवृति पर अंकुश लगाया जाना जरूरी है. यह पूरी संस्कृति को बर्बाद कर रहे हैं. होली के नाम पर किसी को भी परंपरा को बदनाम करने की छूट नहीं मिलनी चाहिए".

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi