S M L

Exclusive: एक ऑटिस्टिक बच्चे की कहानी है ‘लेट मी बी’, शिवालिक शंकर ने किया है डायरेक्ट

एक ऑटिस्टिक बीमारी से ग्रसित लड़के की कहानी है 'लेट मी बी'

Arbind Verma Updated On: Feb 08, 2018 12:12 PM IST

0
Exclusive: एक ऑटिस्टिक बच्चे की कहानी है ‘लेट मी बी’, शिवालिक शंकर ने किया है डायरेक्ट

‘लेट मी बी’ शिवालिक और पल्लवी वैद्य के जरिए लिखी गई और शिवालिक शंकर के विजन से डायरेक्ट की गई एक शॉर्ट फिल्म है. जिसे बड़ी ही खूबसूरती के साथ पर्दे पर उतारा गया है. इसमें तीन कलाकारों ने काम किया है मार्विन वेलास्को, रोड जेम्स और किम्बरिली केहो. ये अनजाने में माता-पिता के जरिए बनाई गई चुनौतियों की कहानी है जिसे एक ऑटिस्टिक बीमारी से ग्रसित लड़का रॉन झेलता है.

MV5BMDA1ZjA3MDktODU1Ny00YzRjLTkyYWYtNjdkNzVkYTBmZGY1XkEyXkFqcGdeQXVyNjY5ODQ5MzE@._V1_QL50_SY1000_CR0,0,1399,1000_AL_

लेट मी बी एक ऑटिस्टिक लड़के की है कहानी

इस फिल्म की कहानी के बारे में फर्स्ट पोस्ट से बात करते हुए शिवालिक शंकर ने बताया कि, ‘लेट मी बी’ एक ऐसे ऑटिस्टिक लड़के की कहानी है जो हर रोज नई चुनौतियों का सामना करता है. जिसकी वजह से उसके माता-पिता जेमी और मार्टिन को काफी संघर्ष करना पड़ता है. रॉन को पढ़ना, पेंटिंग्स बनाना और समंदर के किनारे पर होना बहुत पसंद है. रॉन की मां जेमी एक मेहनतकश महिला है जिसने रॉन की वजह से अपनी जवानी खो दी. रॉन के पिता एक बिजनेसमैन हैं जो रॉन की देखभाल के लिए ज्यादा वक्त घर पर ही बिताना चाहते हैं. रॉन को और खुद को संभालने के लिए हर कठिनाई का वो सामना कर रहे हैं. लेकिन उसके पिता चाहते हैं कि रॉन स्पेशल बच्चों के बीच रहे जिसे जानकर रॉन बहुत परेशान रहता है और अपनी समुद्र की काल्पनिक दुनिया में खोया रहता है. वो चाहता है कि अपने माता-पिता के साथ प्रकृति के बीच रहे. वो कई बार अपनी मां से इस बारे में बोलता भी है लेकिन उसकी मां हर बार मना कर देती है. जिसके बाद वो अपने ख्यालों की दुनिया बनाकार वहां पहुंच जाता है लेकिन उसे बाद में ये अहसास होता है कि वो तो एक सपना था.

MV5BMzcxZDc5NzgtN2JlYi00MDhkLWFhZjMtNzhiY2E0MGExMTkzXkEyXkFqcGdeQXVyNjY5ODQ5MzE@._V1_QL50_SX1777_CR0,0,1777,818_AL_

इस फिल्म का है एक खूबसूरत संदेश

शिवालिक ने आगे बताया कि इस फिल्म को बनाने का मकसद लोगों को इसके माध्यम से एक संदेश देना है कि इस तरह के स्पेशल बच्चों को अच्छे से केयर किया जाए. उनके साथ कोई ज्यादती न की जाए ताकि उनमें विकास की कुछ संभावना जग सके.

MV5BOGJiOGY0YmItOTVmYy00Mjc4LTlkNzctNzZhOWEwYTY2MWU0L2ltYWdlXkEyXkFqcGdeQXVyNDczODI0MTc@._V1_QL50_SY1000_CR0,0,668,1000_AL_

MV5BYjJiNmQ3NDYtNDEwOS00NGNkLWE2YmQtOTBmNjRjNjM3MGE2XkEyXkFqcGdeQXVyNjY5ODQ5MzE@._V1_QL50_SY1000_SX1500_AL_

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi