Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

Exposed : बीएमसी ने सलमान के एनजीओ बीईंग ह्यूमन को किया 'ब्लैकलिस्ट'

सलमान के एनजीओ को सस्ती दर पर डायलसिस सुविधा मुहैया करानी थी लेकिन वो इस प्रोजेक्ट को शुरु नहीं कर पाया

Hemant R Sharma Hemant R Sharma Updated On: Feb 15, 2018 11:09 AM IST

0
Exposed : बीएमसी ने सलमान के एनजीओ बीईंग ह्यूमन को किया 'ब्लैकलिस्ट'

मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने सलमान खान के नामी एनजीओ बीईंग ह्यूमन को काली सूची में डाल दिया है. बीईंग ह्यूमन पर आरोप है कि उसने बीएमसी के साथ वादाखिलाफी की है. इसके खिलाफ एनजीओ को कारण बताओ नोटिस भी भेजा गया है.

मुंबई मिरर में छपी खबर के मुताबिक बीईंग ह्यूमन फाउंडेशन को बांद्रा इलाके में डायलसिस यूनिट लगाने थे, जिनके माध्यम से गरीब लोगों का सस्ते दर पर इलाज किया जाना था लेकिन फाउंडेशन इन यूनिट्स को लगाने में नाकाम साबित हुआ.

दिसंबर 2016 में बीएमसी ने पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत 199 डायलसिस यूनिट लगाने का प्रोजेक्ट बनाया था. जिसमें से 24 यूनिट बीईंग ह्यूमन फाउंडेशन को पाली हिल इलाके में लगाने थे. लेकिन तय वक्त के अंदर फाउंडेशन ये यूनिट मुहैया कराने में नाकाम साबित हुआ.

Salman Cycle

बीएमसी के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि सलमान के एनजीओ को नोटिस भेजा गया है और इस प्रोजेक्ट के लिए एनजीओ ने जो राशि जमा की थी उसे भी जब्त कर लिया गया है.

एनजीओ की प्रवक्ता लोरेटा लूइस ने इस खबर पर दिए अपने बयान में सफाई दी है कि उन्होंने बीएमसी के साथ आधिकारिक तौर पर कोई करार नहीं किया था. इस प्रोजेक्ट को लेकर फाउंडेशन की कुछ अपनी शर्तें थीं जिन पर बातचीत चल रही थी. लेकिन उन शर्तों को इस करार में शामिल नहीं किया जा सका था.

क्या है मामला?

मुंबई के दहिसर इलाके में शिवम अस्पताल को चलाने वाला एनजीओ 50 रुपए में डायलसिस की सेवा मुहैया कराता है जबकि बीएमसी के अस्पतालों में डायलसिस कराने का खर्च 350 रुपए आता है. इसको कम करने के लिए बीएमसी ने दूसरे एनजीओ से भी सेवा लेने का टेंडर निकाला था जिसमें बीईंग ह्यूमन ने भी आवेदन किया था. सलमान के फाउंडेशन ने डायलसिस का लागत 339.25 रुपए ऑफर की थी.

क्या है बीईंग ह्यूमन फाउंडेशन

सलमान खान का ये एनजीओ गरीबों के इलाज का खर्च उठाता है. सलमान अपने क्लोदिंग ब्रांड से भी कपड़े बेचकर इस फाउंडेशन के लिए पैसा जुटाते हैं. हर साल ये फाउंडेशन सैंकड़ों गरीबों के इलाज कराता है जिसमें कैंसर जैसी घातक बीमारी का इलाज शामिल है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi