S M L

विफलता एक कठिन प्रतिद्वंदी है, ये आपको जोर से थप्पड़ मारती है-रणबीर कपूर

मैं एक फिल्मी बैकग्राउंड वाले परिवार में पैदा हुआ हूं लिहाजा मैं इन सब चीजों के लिए पहले से तैयार था

Updated On: Sep 20, 2018 12:09 PM IST

Arbind Verma

0
विफलता एक कठिन प्रतिद्वंदी है, ये आपको जोर से थप्पड़ मारती है-रणबीर कपूर

रणबीर कपूर के चाहने वालों की भरमार है. उनकी एक्टिंग के लोग दीवाने हैं. इस बात को खुद उन्होंने राजकुमार हिरानी की फिल्म ‘संजू’ में साबित किया था. हालांकि, रणबीर ने कई ऐसी फिल्में की हैं जिनमें उनकी एक्टिंग निखर कर सामने आई है. हां कुछ फिल्में जरूर फ्लॉप रहीं लेकिन ‘संजू’ ने उनका कॉन्फिडेंस वापस लौटाया है. रणबीर कहते हैं कि उन्होंने कभी भी सफलता या असफलता को दिल से नहीं लिया है.

असफलता आपको बहुत कुछ सिखाते हैं

हाल ही में रणबीर कपूर ने अपने करियर को लेकर हिदुस्तान टाइम्स से बातचीत की. इस दौरान उन्होंने ऐसी कई बातों का खुलासा किया है जो आज तक अनसुनी थीं. इस बातचीत में रणबीर ने कहा कि, ‘वास्तव में सक्सेस को हैंडल करना बेहद आसान है. जब आप सक्सेसफुल होते हैं तो आप वास्तव में इसे फील नहीं कर रहे होते हैं, क्योंकि लोग केवल तारीफें कर रहे होते हैं लेकिन असफलता आपको बहुत कुछ सिखा देती है. किसी को ये महसूस हो सकता है कि फेलियर की तरह सक्सेस को भी हैंडल किया जा सकता है, लेकिन विफलता एक कठिन प्रतिद्वंदी है. ये आपको जोर से थप्पड़ मारती है और आपको अहसास भी नहीं होता. यहां तक कि ये तुरंत नहीं घटती है. ये एक या दो साल बाद आती है, क्योंकि आप धीरे-धीरे अनुभव करते हैं कि आप असफल दौर से गुजर रहे हैं.’

जिंदगी में इतना बुरा दौर नहीं देखा

इस बातचीत में रणबीर कपूर से पूछा गया कि क्या उन्हें ये महसूस हुआ कि उनके बुरे दौर में उनके प्रति लोगों का व्यवहार बदल गया था. इस पर रणबीर ने कहा कि, ‘उन्होंने असल जिंदगी में इतना बुरा दौर नहीं देखा है. लोग मुझसे प्यार करते थे और सपोर्ट करते रहे. लेकिन ईमानदारी से कहूं, मैं एक फिल्मी बैकग्राउंड वाले परिवार में पैदा हुआ हूं लिहाजा मैं इन सब चीजों के लिए पहले से तैयार था. इसलिए मैंने कभी भी सफलता को अपने सिर पर चढ़ने नहीं दिया और असफलता को कभी दिल से नहीं लगाया.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi