S M L

विवादों में घिरी नंदिता दास की फिल्म ‘मंटो’, किताब के कवर पर छापी नवाजुद्दीन की तस्वीर

‘मंटो’ की इस किताब का प्रकाशन फिल्म बनाने वाली कंपनी वायकॉम और किताब छापने वाली राजकमल प्रकाशन ने मिलकर किया है

Updated On: Sep 15, 2018 02:34 PM IST

Arbind Verma

0
विवादों में घिरी नंदिता दास की फिल्म ‘मंटो’, किताब के कवर पर छापी नवाजुद्दीन की तस्वीर
Loading...

नंदिता दास अपनी अलग तरह की फिल्मों के लिए हमेशा से जानी जाती रही हैं. साथ ही बेबाक बयान को भी लेकर वो आए दिन सुर्खियों में रहती हैं. वो इन दिनों अपनी एक फिल्म ‘मंटो’ लेकर आ रही हैं, जो आने से पहले ही विवादों से घिर गई है. उनकी ये फिल्म ‘मंटो’ से जुड़ी कहानियों पर आधारित है. लेकिन ‘मंटो’ से जुड़ी एक किताब के कवर को लेकर वो सवालों के घेरे में आ गई हैं.

किताब के कवर को लेकर कटघरे में नंदिता

सआदत हसन मंटो की जिंदगी पर आधारित फिल्म ‘मंटो’ में नवाजुद्दीन सिद्दीकी मुख्य किरदार निभा रहे हैं. इस फिल्म का निर्देशन खुद नंदिता दास कर रही हैं. इस फिल्म के दौरान नंदिता ने ‘मंटो’ की 15 कहानियों का संकलन और संपादन कर एक किताब भी रिलीज कर दी है. ये किताब हिंदी और अंग्रेजी भाषा में रिलीज की गई है. जिसके कवर पर नवाजुद्दीन का पोस्टर है. अब इस कवर पेज पर विवाद खड़ा हो गया है. हिंदी साहित्यकारों को ये बात बिल्कुल भी रास नहीं आ रही है. तमाम साहित्यकार इसे एक ईमानदार लेखक की हत्या कह रहे हैं. साहित्यकार ये आरोप लगा रहे हैं कि ये सब किताब बेचने के हथकंडे हैं. नवाज का ‘मंटो’ से ऐसा क्या लगाव है जो ‘मंटो’ की कहानियों की किताब में नवाज की तस्वीर छापी गई है. क्या नवाज ‘मंटो’ से ज्यादा बड़े हैं?

बड़े प्रकाशन ने किताब को किया है प्रकाशित

आपको बता दें कि, ‘मंटो’ की इस किताब का प्रकाशन फिल्म बनाने वाली कंपनी वायकॉम और किताब छापने वाली राजकमल प्रकाशन ने मिलकर किया है. इस कवर पेज पर विवाद मुंबई में 5 सितंबर को आयोजित फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग के बाद शुरू हुआ, जब नंदिता ने किताब की कुछ प्रतियां फिल्म के स्क्रीनिंग के दौरान लोगों को वितरित कीं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi