S M L

आखिर फिल्मों को लेकर विवाद होते ही क्यों हैं?: नाना पाटेकर

दीपिका पादुकोण और संजय लीला भंसाली का सिर काटने की बात गलत है

Updated On: Dec 01, 2017 06:57 PM IST

Arbind Verma

0
आखिर फिल्मों को लेकर विवाद होते ही क्यों हैं?: नाना पाटेकर

एक तरफ राख है तो एक तरफ धुआं-धुआं. ये लाइन बिल्कुल फिट बैठती है संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ पर. कर्जत में फिल्म का सेट जला जो राख में तब्दील हो गया और भंसाली और पूरी टीम के दिल का गुब्बार धुआं बनकर अब तक उठ ही रहा है. देश भर में विरोध-प्रदर्शन का माहौल बना हुआ है जो कहीं से भी थमता दिखाई नहीं देता. फिल्म की रिलीज का अब तक कोई भी रास्ता साफ नहीं हो पाया है. ‘पद्मावती’ पर चल रहे बयानबाजी में अब एक और नाम जुड़ गया है बॉलीवुड अभिनेता नाना पाटेकर का.

नाना पुणे की नेशनल डिफेंस एकेडमी में परेड के दौरान मौजूद थे. नाना से ‘पद्मावती’ विवाद के बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, ‘ ‘पद्मावती’ का विरोध करने वालों ने जिस तरह से दीपिका पादुकोण और भंसाली का सिर काटने की बात की वो सरासर गलत है और इस तरह की बातों को कतई स्वीकार नहीं किया जा सकता.’

नाना ने आगे बोलते हुए कहा कि, ‘मुझे समझ नहीं आता कि आखिर फिल्मों को लेकर विवाद होते ही क्यों हैं? मुझे तो ये भी नहीं पता कि फिल्म में किरदारों को किस तरीके से पेश किया गया है. जब तक मैं फिल्म देख न लूं तब तक इसके बारे में कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दे सकता.’

गुरुवार को ही सलमान ने एचटी समिट में ‘पद्मावती’ के विरोध को गलत बताया था. उन्होंने कहा था कि, ‘बिना फिल्म देखे उसके बारे में कोई भी धारणा बनाना कतई सही नहीं है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi