live
S M L

'पद्मावती' का विरोध कर रही करणी सेना ने की ‘प्री-सेंसरबोर्ड’ बनाने की मांग

करणी सेना ने इतिहास से छेड़छाड़ करने वालों के फिर से अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है.

Updated On: Feb 15, 2017 12:34 PM IST

Hemant R Sharma Hemant R Sharma
कंसल्टेंट एंटरटेनमेंट एडिटर, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
'पद्मावती' का विरोध कर रही करणी सेना ने की ‘प्री-सेंसरबोर्ड’ बनाने की मांग

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती' की शूटिंग के दौरान उपद्रव का आरोप झेल रही 'श्री राजपूत करणी सेना' ने सूचना प्रसारण मंत्रालय से ऐतिहासिक फिल्मों के लिए प्री-सेंसरबोर्ड के गठन की मांग की है.

पद्मावती की शूटिंग के दौरान निर्देशक संजय लीला भंसाली से मारपीट की घटना को सही ठहराते हुए करणी सेना ने कहा है कि ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की किसी कोशिश को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

सबसे ज्यादा पढ़ी गई स्टोरी: भंसाली अगर अख़लाक़ होते तो मारे जाते

नई दिल्ली में संगठन की ओर से आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा गया है कि संगठन जल्द ही ऐतिहासिक फिल्मों के लिए एक गाइडलाइन तय करने के लिए सूचना प्रसारण मंत्रालय को एक ज्ञापन सौंपेगा. संगठन के मुताबिक 'उनकी मुहिम किसी एक फिल्म या निर्माता के खिलाफ नहीं बल्कि इतिहास के संरक्षण से जुड़ी है’.

karni sena

करणी सेना के जयपुर में पद्मावती के सेट पर तोड़फोड़ का नजारा

संगठन के अध्यक्ष लोकेन्द्र सिंह कालवी के मुताबिक 'फिल्म निर्माता व्यावसायिक हितों के कारण ऐतिहासिक तथ्यों को अपने हिसाब से तोड़-मरोड़ कर पेश करना चाहते हैं. उनकी ऐसी कोशिशों से राजपूत समुदाय की संवेदना आहत होती है. बॉलीवुड के फिल्मकारों द्वारा आज की पीढ़ी के सामने इतिहास की गलत तस्वीर पेश करने का सिलसिला लंबे अरसे से चला आ रहा है.

सबसे ज्यादा पढ़ी स्टोरी : किसी 'जिंदा' पद्मावती की इज्जत बचाने भी आएगी करणी सेना?

कालवी ने 2008 में प्रदर्शित फिल्म ‘जोधा अकबर' का उदाहरण देते हुए कहा कि इस फिल्म ने राजपूतों की भावनाओं को काफी चोट पहुंचाई थी. इस तरह की कोशिशों को अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: भंसाली पर हमला करने वालों का इतिहास भी जान लीजिए

पिछले दिनों जयपुर में चल रही 'पद्मावती'  की शूटिंग के दौरान उस वक्त अफरा-तफरी मच गई थी जब राजपूत करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फिल्म के सेट पर तोड़फोड़ की.

करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने उपद्रव मचाते हुए फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली से भी अभद्रता की थी. इस घटना के बाद भंसाली प्रोडक्शन और करणी सेना के बीच एक एग्रीमेंट हुआ जिसमें प्रोडक्शन ने करणी सेना की कुछ मांगों पर विचार करने का वादा किया था. कालवी के मुताबिक 'जब तक इस वादे पर अमल नहीं किया जाता तब तक फिल्म की शूटिंग नहीं होने दी जाएगी’.

ये भी पढ़ें: इस दादागिरी के खिलाफ बॉलीवुड को एक होना पड़ेगा

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi