S M L

जन्मदिन विशेष : सबसे बड़ा स्टारडम रखने वाले रजनीकांत को दिखावा नहीं आता

रजनीकांत के जन्मदिन पर जानिए कैसी गाड़ी से चलते हैं ये सुपरस्टार, कैसा है उनका व्यक्तित्व

Updated On: Dec 12, 2017 10:56 AM IST

Abhishek Srivastava

0
जन्मदिन विशेष : सबसे बड़ा स्टारडम रखने वाले रजनीकांत को दिखावा नहीं आता

रजनीकांत दुनिया में शायद अकेले ऐसे फिल्म कलाकार हैं, जिनकी एक फिल्म दो साल के बाद आती है. अपनी फिल्मों को वो कभी प्रमोट नहीं करते. विज्ञापन की दुनिया से उनका दूर दूर तक कोई नाता नहीं है. सभा आयोजन इत्यादि में कभी वो शिरकत करते हैं तो बिना मेंक अप के अपने गंजे लुक के साथ. रुपहले परदे पर नृत्य की कला में भी वो पारंगत नहीं हैं और अगर अभिनय कौशल की बात की जाए तो अपने समकालीन अभिनेताओं से थोड़े पीछे ही खड़े नजर आते हैं.

लेकिन इन सब के बावजूद उनके जैसा स्टारडम इस देश ने पहले कभी देखा है और ना कभी आगे चलकर शायद देख पाए. उनके स्टारडम की कहानी हाल ही में आमिर खान ने खुद बयान की थी. मौका था रोबोट 2 के कास्टिंग के वक्त जब निर्देशक शंकर, रजनीकांत के फिल्म को ना कहने के बाद मुंबई आए थे आमिर खान से मिलने के लिए. शंकर मुंबई आये थे आमिर को अपनी फिल्म की कहानी सुनाने और उनको साइन करने के लिए. कहानी सुनने के बाद जब गेंद आमिर खान के पलड़े में आई कि वो फिल्म करेंगे या नहीं करेंगे तब उन्होंने शंकर से यही कहा था की कहानी सुनने के बाद वो रजनी सर के अलावा किसी और को उस रोल में सोच भी नहीं सकते हैं.

rajni-2

आमिर ने यह भी कहा था अगर वो इस रोल के लिए अपनी हामी देंगे तो शायद रजनीकांत के फैंस कभी उनको माफ नहीं कर पाएंगे. आमिर ने इसके बाद चेन्नई की उड़ान भरी थी और यही बात खुद रजनीकांत से मिलकर उनके सामने भी रखी थी. हिंदी फिल्म जगत का सबसे कामयाब सितारा किसी और सितारे के बारे में ऐसी बातें कहता है तो जाहिर सी बात है लोग सोचने पर मजबूर ज़रूर हो जाते हैं. शायद यही वजह है की रजनीकांत को जब थलैवा दुनिया बुलाती है तो इसमें सच्चाई भी नजर आती है.

अपने लो प्रोफाइल की वजह से रजनीकांत के बारे में लोगों को बेहद ही कम जानकारी मिल पाती है. जो भी जानकारी उनके बारे में छन छनकर मिलती है वो उन्हीं के माध्यम से मिलती है जो उनके साथ फिल्मों में काम कर चुके हैं. उनके बारे में ऐसा कहा जाता है कि बेहद ही नम्र स्वभाव के रजनी समय के पाबंद हैं और अपने हर शॉट के 10 मिनट पहले पूरे गेट-अप में तैयार होकर सेट पर पहुंच जाते हैं. अपने टेक्स के बीच में जो समय उनको मिलता है उस दौरान वह आध्यात्मिक पुस्तकों को पढ़ना ज्यादा पसंद करते हैं. अगर उनकी शूटिंग चेन्नई में कहीं चल रही होती है तो खाना घर से आता है. लेकिन अगर वो शूटिंग के दौरान किसी और शहर में उनका डेरा लगता है तो वही खाना पसंद करते हैं जो यूनिट के बाकी लोगों को सर्व किया जाता है. यानी किसी भी तरह की मनमानी नहीं और किसी भी तरह के स्टारडम का दिखावा नहीं.

rajni-1

उनके रहन सहन का अंदाज़ वाकई में बेहद सरल है इसके ऊपर रोशनी उनके एक पुराने मित्र और प्रोड्यूसर मुथुरमन ने एक मैगजीन के साथ अपने पुराने साक्षात्कार में डाली है. बतौर मुथुरमन जब शिवाजी - द बॉस की शूटिंग चेन्नई में चल रही थी तब सभी सितारों के लिए वैनिटी वन का इंतज़ाम किया गया था और रजनीकांत के लिये एक अलग दर्जे के वैन का ख़ास जुगाड़ किया गया था. जब रजनीकांत फिल्म के सेट पर आए तब वो सीधे अपने मेकअप रूम की ओर रूख कर गये. जब उनको बताया गया कि उनके लिए एक ख़ास वैन का इंतज़ाम किया गया है तो उनका दो टूक जवाब यही था की उसकी उनकी जरुरत उनको नहीं है और वैन को फौरन वापस भेज दिया जाए. रजनीकांत की इस छोटी सी ना में उनके सरल चरित्र के दर्शन भी होते हैं.

उनकी एक और अदा बेहद ही सरल है जो बालीवुड के सितारो के लिये अपने में एक सबक का पाठ हो सकता है-पिछलग्गुओं का ना होना. रजनीकांत जब भी अपने शूटिंग लोकेशंस पर जाते हैं उनके मैनेजर और ड्राइवर के अलावा उनके साथ और तीसरा नहीं होता है यहां तक की मेक अप मैन भी नहीं. शायद बॉलीवुड के सितारे यह पढ़े तो उनको अपने ऊपर शर्म आ जाए. इतने सालों के अपने फिल्म करियर में गाड़ी के नाम पर रजनीकांत ने सिर्फ दो बार अपनी गाड़ी बदली है. फ़िएट से शुरुआत हुई तो कहानी ख़तम हुई होंडा सिटी पर.

Saundarya Rajnikant

बैंगलोर स्टेट ट्रांसपोर्ट के लिए जब वह बस में कंडक्टर का काम करते थे तो उस वक़्त बस चलाने वाले ड्राइवर को वो अभी तक नही भूले हैं. मौका मिलते ही बैंगलोर जाकर अपने पुराने मित्र से मिलने में वो देरी नहीं करते हैं. जिन मित्रों ने उनकी फिल्म इंस्टिट्यूट में दाखिले में मदद की थी अपने पैसे देकर उनको भी वो आजतक नहीं भूले हैं. रजनीकांत जैसा व्यक्तित्व स्टारडम की दुनिया में अपवाद है. रजनीकांत ने स्टारडम के हर मिथ को हर कदम पर तोड़ा है और दुनिया को बताया है की सरल तरीके से रहने में सच्ची ख़ुशी और सही स्टारडम है. अगर तमिल सिने प्रेमी रजनीकांत को अपना थलैवा मानते हैं तो इसके पीछे एक बड़ी वजह भी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi